समाजशास्त्र का भारतीयकरण : अशोक कुमार कौल द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – सामाजिक | Samajshastra Ka Bhartiyakaran : Ashok Kumar Koul Hindi PDF Book – Social (Samajik)

समाजशास्त्र का भारतीयकरण : अशोक कुमार कौल द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - सामाजिक | Samajshastra Ka Bhartiyakaran : by Ashok Kumar Koul Hindi PDF Book - Social (Samajik)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name समाजशास्त्र का भारतीयकरण / Samajshastra Ka Bhartiyakaran
Author
Category, , ,
Language
Pages 181
Quality Good
Size 3 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : सदैव अनिवार्य रूप से निरंतर गतिशील रहने के बावजूद सामाजिक परिवर्तन की प्रक्रिया एवं परिघटनाए एक अबूझ पहेली की तरह रही है जो कभी-कभी रहस्यात्मकता एवं स्वरूपगत अनिश्चितता के आवरण भी ओढ़ लेती है | समय-समय पर विभिन्न परिप्रेक्ष्यो में सम्बद्ध संदर्भा के साथ सामाजिक परिवर्तनों को जादू टोना-टोटका, ज्ञान-विज्ञान………

Pustak Ka Vivaran : Sadaiv anivary rup se nirantar gatishil rahne ke bavajud samajik parivartan ki prakriya evan parighatanae ek abujh paheli ki tarah rahi hai jo kabhi-kabhi rahasyatmakta evan svarupagat anishchitata ke aavaran bhi odh leti hai. Samay-samay par vibhinn pariprekshyo mein sambaddh sandarbho ke sath samajik parivartanon ko jadu tona-totka, gyan-vigyan…………

Description about eBook : Despite always being essentially dynamic, the process and phenomena of social change has been like an absurd puzzle which occasionally enters the casing of mystery and formative uncertainty. From time to time, in various perspectives, associated references with social changes, sorcery, knowledge-science………………

“देशभक्ति का अर्थ अपने पुरखों की भूमि की रक्षा करना नहीं, अपनी संतानों के लिए भूमि का संरक्षण है।” होसे आर्तेगा गासेत
“Patriotism is not so much protecting the land of our fathers as preserving the land of our children.” Jose Ortega Gasset

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment