हिंदी संस्कृत मराठी ब्लॉग

संसार में नरक / Sansar Mein Narak

संसार में नरक : अम्बिकाप्रसाद वाजपेयी द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - सामाजिक | Sansar Mein Narak : by Ambika Prasad Vajpeyi Hindi PDF Book - Social (Samajik)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name संसार में नरक / Sansar Mein Narak
Author
Category, ,
Language
Pages 161
Quality Good
Size 37 MB
Download Status Available

पुस्तक का बिबरण : मैं कहती हूँ कि यह तुमको क्‍या हो गया है ? जिस चीज के पीछे पड़ गए, पड़ गए। और जो कोई कुछ कहे तो नाक-भौ चढ़ाते हो, मुहं बनाते हो, और हर एक को जाहिल कहते हो। लेकिन कभी यह नहीं सोचते कि यह आखिर तुम क्‍या करते हो ? जब देखो, उसी को लिए बैठे रहते हो। न कोई काम है और न किसी की कुछ सुनते हो ……….

Pustak Ka Vivaran : Main kahati hoon ki yah tumako kya ho gaya hai ? Jis cheej ke peechhe pad gaye, pad gaye. aur jo koi kuchh kahe to nak-bhau chadhate ho, muhan banate ho, aur har ek ko jahil kahate ho. lekin kabhi yah nahin sochate ki yah aakhir tum kya karate ho ? jab dekho, usi ko liye baithe rahate ho. na koi kam hai aur na kisi kee kuchh sunate ho…………
Description about eBook : I say what has happened to you? The thing that fell behind, fell. And whoever says something, noses, sings, make mouths, and everybody is called Goth. But do not ever think that what do you do after all? When you look, keep sitting for him. There is no work or no one’s listening…………..
“महान कार्यों को पूरा करने के लिए न केवल हमें कार्य करना चाहिए बल्कि स्वप्न भी देखने चाहिए। न केवल योजना बनानी चाहिए, अपितु विश्वास भी करना चाहिए।” ‐ एनोटोले फ्रांस
“To accomplish great things, we must not only act but also dream. Not only plan but also believe.” ‐ Anatole France

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Leave a Comment