नरक दर नरक : ममता कालिया द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – उपन्यास | Narak Dar Narak : by Mamta Kalia Hindi PDF Book – Novel (Upanyas)

Book Nameनरक दर नरक / Narak Dar Narak
Author
Category, , , , ,
Language
Pages 166
Quality Good
Size 1.8 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : यह थियेटर बम्बई की बाकी इमारतों से भिन्न था। यह उतना बड़ा और पक्का होने का एहसास नहीं देता था, जैसा आमतौर पर बम्बई को देखकर होता था। अहाते में एक तरफ खुला ख्रेकबार था, एक तरफ बंद। बंद ख्नेकबार में बड़ा-सा शीशे का दरवाजा लगा था। उसने एक बार………….

Pustak Ka Vivaran : Yah theatar bombay ki baki imaraton se bhinn tha. Yah utana bada aur pakka hone ka ehasas nahin deta tha, jaisa Aamtaur par bombay ko dekhakar hota tha. ahate mein ek taraph khula snekabar tha, ek taraph band. band snekabar mein bada-sa sheeshe ka daravaja laga tha. Usane ek bar ………

Description about eBook : This theater was different from the rest of Bombay’s buildings. It did not feel as big and firm as it usually looked at in Bombay. There was an open snakebar in the yard, one side closed. A large glass door was installed in the closed snakebar. He once ………

“अपने डैनों के ही बल उड़ने वाला कोई भी परिंदा बहुत ऊंचा नहीं उड़ता।” – विलियम ब्लेक (१७५७-१८२७), अंग्रेज़ कवि व कलाकार
“No bird soars too high if he soars with his own wings.” – William Blake (1757-1827), British Poet and Artist

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment