सेहरे के फूल : आदिल रशीद द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – उपन्यास | Sehre Ke Phool : by Adil Rashid Hindi PDF Book – Novel (Upanyas)

Book Nameसेहरे के फूल / Sehre Ke Phool
Author
Category, , , ,
Language
Pages 260
Quality Good
Size 777 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : चार-चार सेविकाएँ नहाने के बाद बेगम साहिबा का श्रृंगार करती थीं। उन्हें कीमती पोशाकों से संवारती थीं। जेवरात से सजाती थीं और फूलों से श्रृंगारती थीं। दोपहर के समय से शाम ढले तक चार-चार लौण्डियाँ बेगम साहिबा को सुलाती थीं, उनका सिर सहलाती थीं, तलवों पर मालिश करती थीं, हाथ- पाँवों दबातीं और लगातार पंखा………

Pustak Ka Vivaran : Char-char Sevikayen nahane ke bad begam sahiba ka shringar karati theen. unhen keemati poshakon se sanvarati theen. Jevarat se sajati theen aur phoolon se Shringarati theen . Dophar ke samay se sham dhale tak char-char laundiyan begam sahiba ko sulati theen, unaka sir sahalati theen, talavon par malish karati theen, hath-panvon dabateen aur lagatar pankha……

Description about eBook : After bathing every four girls used to make up Begum Sahiba. She was groomed with expensive costumes. Decorated with jewelry and adorned with flowers. From noon time till dusk, four batons used to put Begum Sahiba to sleep, stroked her head, massaged the soles, pressed her hands and feet and fan continuously ……

“दूसरे क्या कर रहे हैं उसकी परवाह न करें; अपने आप से बेहतर करें, दिनोंदिन अपने ही रेकॉर्ड को तोड़े, और आप कामयाबी हासिल कर लेंगे।” ‐ विलियम बॉट्कर
“Never mind what others do; do better than yourself, beat your own record from day to day, and you are a success.” ‐ William Boetcker

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment