शिव पुराण (संपूर्ण ११ खण्ड – ७ संहिताएं) : डॉ. महेन्द्र मित्तल द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – पुराण | Shiv Puran (Sampurn 11 Khand – 7 Sanhitaen) : by Dr. Mahendra Mittal Hindi PDF Book – Puran

Book Nameशिव पुराण (संपूर्ण ११ खण्ड - ७ संहिताएं) / Shiv Puran (Sampurn 11 Khand - 7 Sanhitaen)
Author
Category, , ,
Language
Pages 845
Quality Good
Size 10 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : हिंदू संस्कृति में कल्याणकारी सदाशिव का स्थान सभी देवताओं में सर्वोपरि है। भारत ही नहीं, अपितु समस्त विश्व में शिव की आराधना किसी न किसी रूप में की जाती है। सर्वाधिक प्राचीन देवों में भगवान आशुतोष शिव को इस सृष्टि का नियन्ता, पालनकर्ता और संहारक माना गया है। उन्हीं की इच्छा से इस सृष्टि का आविर्भाव होता है और उन्हीं की इच्छा से इसका विनाश होता है……….

Pustak Ka Vivaran : Hindu Sanskrti mein kalyankari sadashiv ka sthan sabhi devtaon mein sarvopari hai. Bharat hi nahin, apitu samast vishv mein shiv ki Aaradhana kisi na kisi roop mein ki jati hai. Sarvadhik pracheen devon mein bhagwan aashutosh shiv ko is srshti ka niyanta, palanakarta aur sanharak mana gaya hai. Unheen ki ichchha se is srshti ka Aavirbhav hota hai aur unhin ki ichchha se iska vinash hota hai……….

Description about eBook : In Hindu culture, the place of welfare Sadashiva is paramount among all the gods. Not only in India, but all over the world, Shiva is worshiped in one form or the other. Lord Ashutosh Shiva is considered as the controller, maintainer and destroyer of this universe among the most ancient gods. By his will the creation of this universe takes place and by his will it is destroyed………

“नन्हे शिशु के जन्म का अर्थ है कि भगवान यह चाहते हैं कि यह दुनिया बनी रहे।” ‐ कार्ल सैन्बर्ग
“A baby is God’s opinion that the world should go on.” ‐ Carl Sanburg

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment