अग्नि पुराण : हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – पुराण | Agni Puran : Hindi PDF Book – Puran

अग्नि पुराण : हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - पुराण | Agni Puran : Hindi PDF Book - Puran
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name अग्नि पुराण / Agni Puran
Category, , ,
Language
Pages 842
Quality Good
Size 2.32 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : ऋषि बोले- सूतजी ! आप हमारी पूजा स्वीकार करके हमें वह सारसे भी सारभूत तत्त्व बतलाने की कृपा करें, जिसके जान लेने मात्र से सर्वज्ञता प्राप्त होती है | सूतजी ने कहा- ऋषियों ! भगवान विष्णु ही सारसे भी सारतत्त्व है | वे सृष्टि और पालन आदि के कर्ता और सर्वत्र व्यापक है | ‘वह विष्णुस्वरूप ब्रह्म में ही हूँ’ इस प्रकार उन्हें जान लेने पर सर्वज्ञता प्राप्त हो जाती है……….

Pustak Ka Vivaran : Rshi bole- Sutji ! aap hamari puja swikar karke hamen vah sarase bhi sarbhut tattv batlane kee krpa karen, jiske jaan lene matr se sarvagyata prapt hoti hai. Sutji ne kaha- rshiyon ! bhagwan vishnu hi sarse bhi saratattv hai. Ve srshti aur palan aadi ke karta aur sarvatr vyapak hai. Vah vishnusvarup brahm main hi hun is prakar unhen jaan lene par sarvagyata prapt ho jati hai…………

Description about eBook : Sage said – Gold! By accepting our worship you please bless us with the essence of that essence, whose life is acquired by knowingly. Sutaji said – Rishis! Lord Vishnu is also Saratattva. He is the creator of all creation and adherence and is universal. ‘He is Vishnu according to Brahma’, thus knowingly acquiring knowledge is attained……………….

“तुच्छ व्यक्तियों या क्षुद्र जिंदगियों जैसी कोई चीज़ जिस तरह से नहीं होती, ठीक वैसे ही तुच्छ काम जैसी भी कोई चीज़ नहीं होती।” एलेना बोनर, एलोन टुगेदर
“Just as there are no little people or unimportant lives, there is no insignificant work.” Elena Boner, Alone Together

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

1 thought on “अग्नि पुराण : हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – पुराण | Agni Puran : Hindi PDF Book – Puran”

Leave a Comment