श्रीविद्यार्णवतन्त्रम : श्री कपिलदेवनारायण द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – ग्रन्थ | Shri Vidhyarnavtantram : by Shri Kapil Dev Narayan Hindi PDF Book – Granth

Book Nameश्रीविद्यार्णवतन्त्रम / Shri Vidhyarnavtantram
Author
Category, , , , ,
Language
Pages 542
Quality Good
Size 206 MB
Download Status Not Available
पुस्तक का डाउनलोड लिंक नीचे हरी पट्टी पर दिया गया है|

पुस्तक का विवरण : भारतीयों के समस्त साधना की कुंज्जी है-तन्त्र। समस्त सम्प्रदायों के सब प्रकार की साधनाओं का गूढ़ रहस्य इस तंत्रशास्त्र में निहित है। तंत्र केवल शक्ति-उपासना का ही प्रधान अवलम्बन नहीं है, अपितु सभी साधनाओं का एकमात्र आश्रय है। इसमें स्थूलतम साधन प्रणाली से लेकर अति गृह महाशास्त्र और अति योगसाधनादि………

Pustak Ka Vivaran : Bharatiyon ke samast sadhana kee kunjji hai-tantr. samast sampradayon ke sab prakar kee sadhanaon ka goodh rahasy is tantrashastr mein nihit hai. tantr keval shakti-upasana ka hee pradhan avalamban nahin hai, apitu sabhee sadhanaon ka ekamatra aashray hai. isamen sthoolatam sadhan pranali se lekar ati grh mahashastra aur ati Yogsadhanadi…………

Description about eBook : The key to the entire practice of Indians is the system. The secret of all kinds of practices of all sects lies in this system. Tantra is not only the main support for power-worship, but is the only shelter of all spiritual practices. It includes the broadest system from the very home of Mahasastra and Ati Yogasadhanadi……………….

“अपने आपको आराम दें; जिस खेत को थोड़ा खाली रखा जाता है, उसमें अच्छी पैदावार होती है।” ओविड
“Take rest; a field that has rested gives a bountiful crop.” Ovid

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment