सुलभ वस्तुशास्त्र : रघुनाथ श्रीपाद देशपांडे द्वारा हिन्दी पीडीएफ़ पुस्तक | Sulabh Vastu Shastra : by Raghunath Sripad Deshpande Hindi PDF Book

सुलभ वस्तुशास्त्र : रघुनाथ श्रीपाद देशपांडे द्वारा हिन्दी पीडीएफ़ पुस्तक | Sulabh Vastu Shastra : by Raghunath Sripad Deshpande Hindi PDF Book
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name सुलभ वस्तुशास्त्र / Sulabh Vastu Shastra
Category, ,
Pages 460
Quality Good
Size 8.3 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : उस परमपिता परमात्मा ने संसार मे स्थिरता उत्पन्न करने के हेतु प्राणीमात्र मे आत्मरक्षा और मुखप्राप्ति के भाव कूट कूट कर भर दिये है। संसार के समस्त जीव चाहे वे जलचर या नामचर अथवा व्योमचार हो, सबके सब अपने जीव की अंतिम घडी तक इन भावों के भक्त बने रहते…..

Pustak Ka Vivaran : Us Paramapita paramaatma ne sansaar me sthirata utpann karane ke hetu praanimaatr me aatmaraksha aur mukhapraapti ke bhaav koot koot kar bhar diye hai. sansaar ke samast jeev chaahe ve jalachar ya naamachar athava vyomachar ho, sabake sab apane jeevakee antim ghadee tak in bhaavon ke bhakt bane rahate………….

Description about eBook : In order to create stability in the world, the God-fearing God has filled the Self with self-protection and self-realization in the zodiac. All the creatures in the world, whether it is a living or a nymphomaniac or a person, all of them have remained devoted to these living beings till the end of their life…………..

“ऐसा नहीं है कि कार्य कठिन हैं इसलिए हमें हिम्मत नहीं करनी चाहिए, ऐसा इसलिए होता है क्योंकि हम हिम्मत नहीं करते हैं इसलिए कार्य कठिन हो जाते हैं।” ‐ सेनेका
“It is not because things are difficult that we do not dare; it is because we do not dare that things are difficult.” ‐ Seneca

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment