सरल वास्तु शास्त्र मुफ्त हिंदी पुस्तक | Saral Vastu Shastra Free Hindi Pdf | Hindi Pdf Books

पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name सरल वास्तु शास्त्र मुफ्त हिंदी पुस्तक | Saral Vastu Shastra
Category,
Language
Pages 96
Quality Good
Size 4.2 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : मस्तिष्क में आकाश, कंधों में अग्नि, नामि में वायु, घुटनों में पृथ्वी, पादांत में जल आदि तत्वों का निवास है और आत्मा परमात्मा है, क्योंकि दोनों ही निराकार हैं । दोनों को ही महसूस किया जा सकता है। इसी लिए स्वर महाविज्ञान में प्राण वायु आत्मा मानी गयी है और यही प्राण वायु जब शरीर (देह) से निकल कर सूर्य में विलीन हो जाती है, तब शरीर निष्प्राण हो जाता है। इसी लिए सूर्य ही भूलोक में समस्त जीवों, पेड़-पौधों का जीवन आधार है; अर्थात्‌ सूर्य सभी प्राणियों के प्राणों का स्रोत है। यही सूर्य जब उदय होता है, तब संपूर्ण संसार में प्राणाग्नि का संचार आरंभ होता है, क्योंकि सूर्य की रश्मियों में सभी रोगों को नष्ट करने की शक्ति मौजूद है। सूर्य पूर्व दिशा में ‘उगता हुआ पश्चिम में अस्त होता है। इसी लिए भवन निर्माण में ‘ओरिएंटेशन’ का स्थान प्रमुख है। भवन निर्माण में सूर्य ऊर्जा, वायु ऊर्जा, चंद्र ऊर्जा आदि के पृथ्वी पर प्रमाव प्रमुख माने जाते हैं।…………

Pustak ka Vivaran : Mastishk mein aakaash, kandhon mein agni, naami mein vaayu, ghutanon mein prthvee, paadaant mein jal aadi tatvon ka nivaas hai aur aatma paramaatma hai, kyonki donon hee niraakaar hain. Donon ko hee mahasoos kiya ja sakata hai. Isee lie svar mahaavigyaan mein praan vaayu aatma maanee gayee hai aur yahee praan vaayu jab shareer (deh) se nikal kar soory mein vileen ho jaatee hai, tab shareer nishpraan ho jaata hai. Isee lie soory hi bhoolok mein samast jeevon, ped-paudhon ka jeevan aadhaar hai; arthaat‌ soory sabhee praaniyon ke praanon ka srot hai. Yahi soory jab uday hota hai, tab sampoorn sansaar mein praanaagni ka sanchaar aarambh hota hai, kyonki soory kee rashmiyon mein sabhee rogon ko nasht karane kee shakti maujood hai. Soory poorv disha mein ugata hua pashchim mein ast hota hai. Isee lie bhavan nirmaan mein orienteshan ka sthaan pramukh hai. Bhavan nirmaan mein soory oorja, vaayu oorja, chandr oorja aadi ke prthvee par pramaav pramukh maane jaate hain………….

Description of the book: Sky in the brain, fire in the shoulders, air in the name, earth in the knees, water in the feet, etc., and the soul is divine, because both are formless. Both can be felt. That is why in Swara Maha Vigyan, Prana Vayu is considered as the soul and when this Prana Vayu leaves the body and merges with the Sun, then the body becomes lifeless. That is why the sun is the life base of all living beings and plants in the earth; That is, the sun is the source of life for all beings. When this sun rises, then the circulation of Pranaagni starts in the whole world, because the power of destroying all diseases is present in the rays of the Sun. The sun rises in the east and sets in the west. That is why the place of ‘orientation’ in building construction is important. In building construction, the effects of sun energy, wind energy, moon energy etc. on the earth are considered to be major……………….

“अपने डैनों के ही बल उड़ने वाला कोई भी परिंदा बहुत ऊंचा नहीं उड़ता।” ‐ विलियम ब्लेक (१७५७-१८२७), अंग्रेज़ कवि व कलाकार
“No bird soars too high if he soars with his own wings.” ‐ William Blake (1757-1827), British Poet and Artist

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment