सुन्दर रस : लक्ष्मीनारायण लाल द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – नाटक | Sundar Ras : by Laxminarayan Lal Hindi PDF Book – Drama (Natak)

Book Nameसुन्दर रस / Sundar Ras
Author
Category, , , , , ,
Language
Pages 99
Quality Good
Size 8.05 MB
Download Status Available

सुन्दर रस पीडीऍफ़ पुस्तक का संछिप्त विवरण : पीछे का दरवाज़ा ख़ुलता है । कविराज के दो शिष्य–क्रमंश: शक्तिदेव और जैनाथ हाथों
में पुस्तक लिये प्रवेश करते हैं. और अपने-अपने आसन पर बैठ कर स्वाध्ययन में लग जाते हैं। घर में से, कुछ
ही क्षणों बाद कविराज पूजा को मुद्रा में निकलते हैं- अपनी अंजलि में पुष्प लिये हुए । शिष्य दौड़ कर गुरु का
चरण स्पर्श हैं | कविराज उन्हें रोक कर, पहले अपने गुरु के चित्र पर पुष्प चढ़ाते हैं, फ़िर शिष्यों का

अभिनन्दन.

Sundar Ras PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Peechhe ka Darvaza khulata hai . Kaviraj ke do Shishy-Kramansh: shaktidev aur jainath hathon mein Pustak liye Pravesh karate hain. Aur apane-apane Aasan par baith kar svadhyayan mein lag jate hain. Ghar mein se, kuchh hee kshanon bad kaviraj pooja ko mudra mein Nikalate hain- Apani Anjali mein Pushp liye huye . Shishy daud kar guru ka charan sparsh hain . Kaviraj unhen rok kar, pahale apane guru ke chitr par pushp chadhate hain, Phir Shishyon ka Abhinandan………

 

Short Description Sundar Ras of  Hindi PDF Book : The back door opens. Two disciples of Kaviraj – Kramansh: Shaktideva and Jainath enter the book with their hands. And start sitting on their own posture and study. From home, a few moments later, Kaviraj leaves Pooja in a pose – carrying flowers in her Anjali. The disciples run and touch the feet of the Guru. Kaviraj stops them, first puts flowers on the picture of his guru, then greetes the disciples ……

“काम समस्त सफलता की आधारभूत नींव होता है।” ‐ पाब्लो पिकासो
“Action is the foundational key to all success.” ‐ Pablo Picasso

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment