स्वर्ग के सोपानों पर : श्री सोमसुन्दरम द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – सामाजिक | Swarg Ke Sopanon Par : by Shri Somsundaram Hindi PDF Book – Social (Samajik)

स्वर्ग के सोपानों पर : श्री सोमसुन्दरम द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - सामाजिक | Swarg Ke Sopanon Par : by Shri Somsundaram Hindi PDF Book - Social (Samajik)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Author
Category, , ,
Language
पुस्तक का डाउनलोड लिंक नीचे हरी पट्टी पर दिया गया है|
“सहिष्णुता के अभ्यास में आपका शत्रु ही सर्वश्रेष्ठ शिक्षक होता है।” दलाई लामा
“In the practice of tolerance, one’s enemy is the best teacher.” Dalai Lama

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

स्वर्ग के सोपानों पर : श्री सोमसुन्दरम द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – सामाजिक | Swarg Ke Sopanon Par : by Shri Somsundaram Hindi PDF Book – Social (Samajik)

स्वर्ग के सोपानों पर : श्री सोमसुन्दरम द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - सामाजिक | Swarg Ke Sopanon Par : by Shri Somsundaram Hindi PDF Book - Social (Samajik)

Pustak Ka Naam / Name of Book : स्वर्ग के सोपानों पर / Swarg Ke Sopanon Par Hindi Book in PDF
Pustak Ke Lekhak / Author of Book : श्री सोमसुन्दरम / Shri Somsundaram
Pustak Ki Bhasha / Language of Book : हिंदी / Hindi
Pustak Ka Akar / Size of Ebook : 18 MB
Pustak Mein Kul Prashth / Total pages in ebook : 260
Pustak Download Sthiti / Ebook Downloading Status : Best

 

(Report this in comment if you are facing any issue in downloading / कृपया कमेंट के माध्यम से हमें पुस्तक के डाउनलोड ना होने की स्थिति से अवगत कराते रहें )

स्वर्ग के सोपानों पर : श्री सोमसुन्दरम द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - सामाजिक | Swarg Ke Sopanon Par : by Shri Somsundaram Hindi PDF Book - Social (Samajik)

Pustak Ka Vivaran : Vah Bada Krodhit va khend-khinn tha samane Muniraj ko dekhakar sara prabhav unhon ka samajha unhen marane ka vichar kar muni maharaj ke sameep aaya. ShrI Guru ki beetarag chhavi ko dekh marana to door unake charanon mein gir pada, aur apane Aparadhon ki katu Aalochana kee aur vah drn shraddhani Shravak bankar Aadarsh jain ban gaya . Jisane apane samyavatv ki Raksha ke liye jeevan ko bhi……

 

अन्य सामाजिक पुस्तकों के लिए यहाँ दबाइए- “सामाजिक हिंदी पुस्तक

Description about eBook : He was very angry and disgusted, seeing Muniraj in front, he understood all the effects and thought of killing him, came near Muni Maharaj. Seeing the passing image of Shri Guru, he fell away at his feet, and severely criticized his crimes, and he became an ardent Jain shrine and became an ideal Jain Who also saved life to protect its equality ……..

 

To read other Social books click here- “Social Hindi Books

 

सभी हिंदी पुस्तकें ( Free Hindi Books ) यहाँ देखें

श्रेणियो अनुसार हिंदी पुस्तके यहाँ देखें

 

“यदि आप किसी बाह्य कारण से परेशान हैं, दो परेशानी उस कारण से नहीं, अपितु आपके द्वारा उसका अनुमान लगाने से होती है, और आपके पास इसे किसी भी क्षण बदलने का सामर्थ्य है।”

‐ मैर्कस औयरिलियस

——————————–

“If you are distressed by anything external, the pain is not due to the thing itself, but to your estimate of it; and this you have the power to revoke at any moment.”

‐ Marcus Aurelius

Connect with us on Facebook and Instagram – सोशल मीडिया पर हमसे जुड़ने के लिए हमारे पेज लाइक करें. लिंक नीचे दिए है

Leave a Comment