तरंगिनी : प्रदीप कुमार द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – सामाजिक | Tarangini : by Pradeep Kumar Hindi PDF Book – Social (Samajik)

Book Nameतरंगिनी / Tarangini
Author
Category,
Language
Pages 97
Quality Good
Size 12 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : कोई भी आदम इस संसार में हन्‍्क के सहयोग के बिना सेब का आनन्द नहीं ले सकता। इस कृति के रचित होने की सम्पूर्ण प्रक्रिया में मेरी धर्मपत्ती अलका ने न केवल सभी सांसारिक भीतिकताओं का भार ही अपने कन्धों पर लेकर मुझे सहयोग दिया वरन्‌ अत्यन्त बौद्धिक रूप से की गयी अपनी समालोचना से वह पूरी रचना में समय-समय पर निखार लाती रहीं……..

Pustak Ka Vivaran : Koi Bhi Adam is Sansar mein havk ke sahayog ke bina seb ka Aanand nahin le sakata. Is Krti ke Rachit hone kee sampoorn prakriya mein meri Dharmapatti alaka ne na keval sabhee sansarik bhautikataon ka bhar hee apane kandhon par lekar mujhe sahayog diya varan‌ atyant bauddhik roop se kee gayi Apani Samalochana se vah Poori Rachana mein samay-samay par Nikhar Lati Raheen…………

Description about eBook : No man can enjoy apple in this world without the help of Eve. In the entire process of composing this work, my devotee Alka not only supported me by taking the weight of all the worldly materialities on her shoulders, but she was able to improve the entire composition from time to time through her critically criticized. ………..

“एक गुस्सैल व्यक्ति अपना मुंह खोलता है, लेकिन अपनी आंखे (सोचने की शक्ति को) बन्द कर लेता है।” ‐ कैटो
“An angry man opens his mouth and shuts his eyes.” ‐ Cato

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment