त्रिपुरी का कलचुरि वंश : चिन्तामणि हटेला ”मणि” द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – इतिहास | Tripuri Ka Kalchuri Vansh : by Chintamani Hatela ”Mani” Hindi PDF Book – History (Itihas)

Book Nameपुरी का कलचुरि वंश / Tripuri Ka Kalchuri Vansh
Author
Category, ,
Language
Pages 166
Quality Good
Size 4.8 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : गुजरात के अन्हिलवाडे में इसी समय सिद्धराज जयसिंह हुआ। इसने लगातार 8 वर्ष तक मालवा के उस भाग के लिए लड़ाई लड़ी और अंत में उसे जीत ही लिया, जो गुजरात से मिला हुआ था। सोमनाथ का मंदिर इसी समय पत्थरों से निर्मित हुआ। सिद्धराज जयसिंह का पड़ोसी और समकालीन चौहान अजयराज और आना थे। अजयराज वसाकर सांभर के बजाय उसे राजधानी बनाया…….

Pustak Ka Vivaran : Gujrat ke Anhilavade mein isee Samay Siddharaj Jaysingh huya. Isane lagatar 18 varsh tak malava ke us bhag ke liye ladai Ladi aur ant mein use jeet hee liya, jo Gujrat se mila huya tha. Somanath ka Mandir isee Samay Pattharon se Nirmit huya. Siddharaj Jaysingh ka Padosi aur samakaleen Chauhan Ajayraj aur Aana the. Ajayaraj Vasakar Sambhar ke Bajay use Rajadhani Banaya…………

Description about eBook : Siddhraj Jaisingh happened at this time in Anhilwade, Gujarat. It fought for that part of Malwa for 18 consecutive years and eventually won it, which was merged with Gujarat. Somnath’s temple was built with stones at this time. Siddharaj Jaisingh’s neighbor and contemporary Chauhan was Ajayraj and Aana. Ajayraj Vasakkar made him the capital instead of Sambhar …………

“ऐसा छात्र जो प्रश्न पूछता है, वह पांच मिनट के लिए मूर्ख रहता है, लेकिन जो पूछता ही नहीं है वह जिंदगी भर मूर्ख ही रहता है।” ‐ चीनी कहावत
“The student who asks is a fool for five minutes, but he who does not ask remains a fool forever.” ‐ Chinese Proverb

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment