उदयपुर राज्य का इतिहास भाग-1 : राय बहादुर गौरीशंकर हीराचन्द्र ओझा द्वारा हिन्दी पीडीएफ़ पुस्तक | Udaypur Rajya Ka Itihas Bhag-1 : by Ray Bahadur Gaurishankar Hirachand Ojha Hindi PDF Book

उदयपुर राज्य का इतिहास भाग-1 : राय बहादुर गौरीशंकर हीराचन्द्र ओझा द्वारा हिन्दी पीडीएफ़ पुस्तक | Udaypur Rajya Ka Itihas Bhag-1 : by Ray Bahadur Gaurishankar Hirachand Ojha Hindi PDF Book
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name उदयपुर राज्य का इतिहास भाग-1 / Udaypur Rajya Ka Itihas Bhag-1
Author
Category, ,
Language
Pages 511
Quality Good
Size 26 MB
Download Status Available

उदयपुर राज्य का इतिहास भाग-1 पुस्तक का कुछ अंश : संसार के साहित्य में इतिहास का बहुत कुछ आदर है। उस मानव समाज का बहुत कुछ उपकार होता है । देशों, जातियों, राष्ट्रों तथा महापुरुषों के उदाहरणीय कामों को प्रकट करने का एकमात्र साधन इतिहास है। किसी जाति को सजीव रखने, अपनी उन्‍नति करने तथा उसपर इढ़ रहकर सदा अग्रसर होते रहने के लिए संसार में उससे बढ़कर दूसरा कोई साधन नहीं है………

Udaypur Rajya Ka Itihas Bhag-1 PDF Pustak in Hindi Ka Kuch Ansh : Sansar ke sahity mein itihas ka bahut kuchh adar hai. Us manav samaj ka bahut kuchh upakar hota hai. Deshon, jatiyon, rashtron tatha mahapurushon ke udaharaniy kamon ko prakat karane ka ekamatr sadhan itihas hai. Kisi jati ko sajiv rakhane, apani unnati karane tatha usapar drdh rahakar sada agrasar hote rahane ke lie sansar mein usase badhakar doosara koi sadhan nahin hai………….
Short Passage of Udaypur Rajya Ka Itihas Bhag-1 Hindi PDF Book : There is a lot of respect in history of world literature. There is a lot of goodness in human society. The only way to reveal the examples of countries, nations, nations and great men is history. There is no other way in which there is no other way in the world to keep any race alive, to make progress and to remain ever more persistent…………..
“हर सुबह जब मैं अपनी आंखे खोलता हूं तो अपने आप से कहता हूं कि आज मुझमें स्वयं को खुश या उदास रखने का सामर्थ्य है न कि घटनाओं में। मैं इस बात को चुन सकता हूं कि यह क्या होगी। कल तो जा चुका है, कल अभी आया नहीं है। मेरे पास केवल एक दिन है, आज तथा मैं दिन भर प्रसन्न रहूंगा।” ‐ ग्रोचो मार्क्स
“Each morning when I open my eyes I say to myself: I, not events, have the power to make me happy or unhappy today. I can choose which it shall be. Yesterday is dead, tomorrow hasn’t arrived yet. I have just one day, today, and I’m going to be happy in it.” ‐ Groucho Marx

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment