प्रतापगढ़ राज्य का इतिहास : गौरीशंकर हीराचन्द ओझा द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – इतिहास | Pratapgarh Rajya Ka Itihas : by Gaurishankar Heerachand Ojha Hindi PDF Book – History (Itihas)

Book Nameप्रतापगढ़ राज्य का इतिहास / Pratapgarh Rajya Ka Itihas
Author
Category, ,
Language
Pages 540
Quality Good
Size 35 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : मुग़लों से पूर्व का इस राज्य के नरेशों का जो इतिहास मिलता है वह इतना कम है कि उससे उनके व्यक्तित्व और कार्यों पर विशेष प्रकाश नहीं पड़ता; पर उससे इतना अवश्य पाया जाता है कि मेवाड़ से अलग हो जाने पर भी उन्होंने उसको अपनी मातभूमि समझा, पीर-प्रखूता मेवाड़-भूमि का उनके हृदय में बड़ा आदर रहा और थे उसकी रक्षा के……

Pustak Ka Vivaran : Mugalon se Purv ka is Rajy ke Nareshon ka jo itihas milata hai vah itana kam hai ki usase unake vyaktitv aur karyon par vishesh prakash nahin padata; par usase itana avashy paya jata hai ki mevad se alag ho jane par bhi unhonne usako apani matbhoomi samajha, peer-prakhoota mevad-bhoomi ka unake hrday mein bada aadar raha aur the usaki raksha ke……..

Description about eBook : The history of the kings of this kingdom before the Mughals is so low that it does not give special light on their personality and actions; But it is definitely found from him that even after separating from Mewar, he considered him as his motherland, Pir-Prakuta Mewar-Bhoomi had great respect in his heart and were protecting him ……..

“यदि आप तर्क करते हैं तो अपने मिज़ाज (गुस्से) का ध्यान रखें। आपका तर्क, यदि आपके पास कोई है, स्वयं इसकी देखभाल कर लेगा।” ‐ जोसेफ फेर्रेल
“If you go in for argument, take care of your temper. Your logic, if you have any, will take care of itself.” ‐ Joseph Farrell

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment