विवशता : राजेन्द्र सक्सेना द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – कहानी | Vivashata : by Rajendra Saxena Hindi PDF Book – Story (Kahani)

विवशता : राजेन्द्र सक्सेना द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - कहानी | Vivashata : by Rajendra Saxena Hindi PDF Book - Story (Kahani)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name विवशता / Vivashata
Author
Category, ,
Language
Pages 588
Quality Good
Size 6 MB
Download Status Available

विवशता पुस्तक का कुछ अंश : टेलीफोन की घंटी बराबर बज रही थी । वह बजे ही जा रही थी, किन्तु वंदना ने रिसीवर उठाया नहीं) वह अपने कमरे में ड्रसिंग टेबल के सामने तैयार होने में व्यस्त थी । घड़ी में साढ़े तीन बज रहे है। उसे चार बजते-बजते निकल जाना था । आज की किटी पार्टी की वह होस्ट थी होस्ट अर्थात मीनू, गेम्स आदि पार्टी का और दूसरा इंतजाम सब वन्‍्दना के जिम्मे था………

Vivashata PDF Pustak in Hindi Ka Kuch Ansh : Teliphon ki Ghanti barabar baj rahi thi. Vah baje hi ja Rahi thi, kintu vandana ne Risivar uthaya nahin) vah apane kamare mein drasing tebal ke samane taiyar hone mein vyast thi . Ghadi mein sadhe teen baj rahe hai. Use char bajate-bajate Nikal jana tha . Aaj ki kity Party ki vah host thee host Arthat Menu, Games aadi Party ka aur doosara Intjam sab vandana ke jimme tha……
Short Passage of Vivashata Hindi PDF Book : The telephone bell was ringing. She was leaving at noon, but Vandana did not pick up the receiver) She was busy getting ready in front of the dressing table in her room. It is three thirty in the clock. He was to leave at four o’clock. The host of today’s kitty party was the host ie, menu, games etc. Party and other arrangements were all responsible for the wedding……
“आप अपने जीवन काल के लिए कुछ नहीं कर सकते हैं, लेकिन आप इसे मूल्यवान बनाने के लिए कुछ अवश्य ही कर सकते हैं।” इवान ईसार
“You can’t do anything about the length of your life, but you can do something about its width and depth.” Evan Esar

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment