अपना दाना : सर्वेश्वरदयाल सक्सेना द्वारा हिंदी पुस्तक – कहानी | Apna Dana : by Sarveshvar Dayal Saxena Hindi PDF Book – Story (Kahani)

अपना दाना : सर्वेश्वरदयाल सक्सेना द्वारा हिंदी पुस्तक – कहानी | Apna Dana : by Sarveshvar Dayal Saxena Hindi PDF Book – Story (Kahani)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name अपना दाना / Apna Dana
Author
Category, , ,
Language
Pages 14
Quality Good
Size 718 KB
Download Status Available

अपना दाना का संछिप्त विवरण : वह एक गरीब लड़का था। स्कूल जाते समय उसकी माँ उसके र्ते में थोड़े से भुने चने रख देती थी। खाने की छुट्टी में वह कक्षा के बाहर सीढ़ियों पर बैठकर उन्हें खाता था, जबकि दर्जे के सारे लड़के घंटा बजते ही स्कूल के फाटक की ओर भागते थे। वहाँ खोमचे वालों की भीड़ लगी रहती थी। उसकी माँ ने कह रखा था कि बेटा, अपना दाना ही खाना चाहिए; न दूसरों……..

Apna Dana PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Vah ek Gareeb Ladaka tha. School jate samay usaki man usake baste mein thode se bhune chane rakh deti thee. Khane ki Chhutti mein vah kaksha ke bahar seedhiyon par baithakar unhen khata tha, jabaki darje ke sare Ladake Ghanta bajate hi school ke phatak ki or bhagate the. Vahan khomache valon ki bheed lagi rahati thi. usakee man ne kah rakha tha ki beta, Apana dana hee khana chahiye; na doosaron……….
Short Description of Apna Dana PDF Book : He was a poor boy. On the way to school, his mother used to keep a little roasted gram in his bag. He used to sit on the stairs outside the classroom and eat them while eating, while all the boys of the class ran towards the school gate as soon as the bell rang. There used to be crowds of hawkers. His mother kept saying that son, you should eat your grain. Not others ………..
“यदि आप बार-बार शिकायत नहीं करते हैं तो आप किसी भी कठिनाई को दूर कर सकते हैं।” ‐ बर्नार्ड एम. बारूच
“You can overcome anything if you don’t bellyache.” ‐ Bernard M. Baruch

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment