यह मजाक कैसा है : मदन डागा द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – कविता | Yah Majak Kaisa Hai : by Madan Daga Hindi PDF Book – Poem (Kavita)

यह मजाक कैसा है : मदन डागा द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - कविता | Yah Majak Kaisa Hai : by Madan Daga Hindi PDF Book - Poem (Kavita)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name यह मजाक कैसा है / Yah Majak Kaisa Hai
Author
Category, , , , , ,
Language
Pages 122
Quality Good
Size 806 KB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : प्रस्तुत पुस्तक के प्रसंग में कुछ लिखने का सोचते ही, भीतर-बाहर सभी कुछ इतना अधिक उद्वेलित हो उठता है या इतना जम जाता है, जो शब्दों की पकड़ में ही नहीं आता। उनके सम्पर्क में जिये तीन दशक लेखनी की नोक पर इस कदर लद जाते हैं कि कुछ लिखने ही नहीं बनता। यह सब सोचा था कि उनकी पुस्तक के प्रकाशन-पूर्व उनकी चिर-अनुपस्थिति में…….

Pustak Ka Vivaran : Prastut Pustak ke prasang mein kuchh likhane ka sochate hee, bheetar-bahar sabhi kuchh itana adhik udvelit ho uthata hai ya itana jam jata hai, jo shabdon kee pakad mein hee nahin aata. Unake sampark mein jiye teen dashak lekhani kee nok par is kadar lad jate hain ki kuchh likhane hee nahin banata. Yah sab socha tha ki unaki pustak ke prakashan-poorv unaki chir-anupasthiti mein…………

Description about eBook : When thinking of writing something in the context of the presented book, everything gets stirred up or frozen so much inside and outside, which is not in the grip of words. Three decades lived in their contact are so spent on the tip of the pen that nothing can be written. It was all thought that in his absence before the publication of his book………..

“किसी व्यक्ति के दिल-दिमाग को समझने के लिए इस बात को न देखें कि उसने अभी तक क्या प्राप्त किया है, अपितु इस बात को देखें कि वह क्या अभिलाषा रखता है।” – कैहलिल जिब्रान
“To understand the heart and mind of a person, look not at what he has already achieved, but at what he aspires to.” – Kahlil Gibran

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment