अब नहीं होती किसी से कोई शिकायत : प्रफुल्ल कोलख्यान द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – साहित्य | Ab Nahin Hoti Kisi Se Shikayat : by Prafull Kolakhyan Hindi PDF Book – Literature (Sahitya)

अब नहीं होती किसी से कोई शिकायत : प्रफुल्ल कोलख्यान द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – साहित्य | Ab Nahin Hoti Kisi Se Shikayat : by Prafull Kolakhyan Hindi PDF Book – Literature (Sahitya)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name अब नहीं होती किसी से कोई शिकायत / Ab Nahin Hoti Kisi Se Shikayat
Author,
Category, , ,
Language
Pages 1
Quality Good
Size 37 KB
Download Status Available

अब नहीं होती किसी से कोई शिकायत का संछिप्त विवरण : दिल बहुत बोझिल हो जाता था पायताना ढीला पड़ जाता था मन सावे की खाट की तरह तबेले की झलंगी खाट में बदल जाता था रीढ़ टेढ़ी हो जाती थी देह निढाल हो जाता था पहले बहुत होती थी शिकायत अब नहीं होती है इंतजार रहता था बेसब्री से बहुत और बस मन में दुहराता रहता था सब्र का फल मीठा होता है…..

Ab Nahin Hoti Kisi Se Shikayat PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Dil Bahut Bojhil ho jata tha Paytana dheela pad jata tha man save ki khat ki tarah tabele ki jhalangi khat mein badal jata tha reedh tedhi ho jati thi deh Nidhal ho jata tha pahale bahut hoti thi shikayat ab nahin hoti hai Intjar rahata tha Besabri se bahut aur bas man mein Duhrata rahata tha sabra ka phal meetha hota hai……..
Short Description of Ab Nahin Hoti Kisi Se Shikayat PDF Book : The heart used to become very cumbersome, the paitana used to get loose, the mind used to turn into a stilt’s cot like a cot. And just kept repeating in my mind the fruit of patience is sweet……..
“मेरी पीढ़ी की महानतम खोज यह रही है कि मनुष्य अपने दृष्टिकोण में परिवर्तन कर के अपने जीवन को बदल सकता है।” विलियम जेम्स (१८४२-१९१०), अमरीकी दार्शनिक
“The greatest discovery of my generation is that a human being can alter his life by altering his attitudes.” William James (1842-1910), American Philosopher

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment