अफगानिस्तान – अंक : रामनारायण मिश्र द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – सामाजिक | Afghanistan – Ank : by Ramnarayan Mishra Hindi PDF Book – Social (Samajik)

Book Nameअफगानिस्तान – अंक / Afghanistan – Ank
Author
Category,
Language
Pages 156
Quality Good
Size 8.7 MB
Download Status Available

अफगानिस्तान – अंक का संछिप्त विवरण : अफगानिस्तान का व्यापार अधिकतर पोबिन्दा लोगों के हाथ में है | ये लोग सोदाग ! होते हुए भी सिपाहियों का सा जीवन बिताते हैं | पेबिन्दा लोग किसी एक फिरके के नहीं हैं। वे कई फ़िरकों से मिल कर बने हैं। पर अधिकतर ये लोग गिल्ज़ई या दोगले हैं, कुछ असली हैं और खुरासानी सरदार लोदी की संतान हैं | सुलेमान पहाड़ के…

Afghanistan – Ank PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Afaganistan ka vyapar adhikatar pobinda logon ke hath mein hai . Ye Log sodag ! hote huye bhi Sipahiyon ka sa jeevan bitate hain . Pebinda log kisi ek phirake ke nahin hain. Ve kayi firakon se mil kar bane hain. par adhikatar ye log gilzee ya dogale hain, kuchh asalee hain aur khurasani sardar lodi ki santan hain. Suleman pahad ke…….
Short Description of Afghanistan – Ank PDF Book : The trade of Afghanistan is mostly in the hands of the Pobinda people. These people Sodag! Notwithstanding, they live like soldiers. Pebinda people do not belong to any one class. They are made of many fir. But mostly these people are Gilzai or Dogale, some are real and children of Khorasani Sardar Lodi. Of Sulaiman Pahad …….
“यदि आप ग़ुस्से के एक क्षण में धैर्य रखते हैं, तो आप दुःख के सौ दिन से बच जाएंगे।” – चीनी कहावत
“If you are patient in one moment of anger, you will escape a hundred days of sorrow.” -Chinese Proverb

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment