अन्तस्तल : आचर्य चतुरसेन शास्त्री द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – साहित्य | Antastal : by Acharya Chatursen Shastri Hindi PDF Book – Literature (Sahitya)

अन्तस्तल : आचर्य चतुरसेन शास्त्री द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - साहित्य | Antastal : by Acharya Chatursen Shastri Hindi PDF Book - Literature (Sahitya)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name अन्तस्तल / Antastal
Author
Category, , , , ,
Language
Pages 83
Quality Good
Size 2 MB
Download Status Available

अन्तस्तल का संछिप्त विवरण : मेरी यह रचना विधवा है | हाजी मुहम्मद के साथ तौरसे मैंने इसका ब्याह कर दिया था | यह आदमी गुजराती साहित्य-मंदिर का मस्ताना पुजारी था-और ‘बीसमी सदी’ नामक प्रख्यात पत्रिका का संपादक था | सबसे प्रथम उसी की द्रष्टि में यह रचना चढ़ी | उसने पागल की तरह इसे लाड़ किया ! मैंने भी अपने पराये की परवा न कर उसी से इसका ब्याह कर दिया………

Antastal PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Meri yah rachna vidhva hai. Haji Muhammad ke sath taurase mainne iska byah kar diya tha. Yah aadmi gujrati sahity-mandir ka mastana pujari tha-aur bisami sadi namak prakhyat patrika ka sampadak tha. Sabse pratham usi ki drashti mein yah rachana chadhi. Usne pagal ki tarah ise laad kiya ! mainne bhi apne paraye ki parva na kar usi se iska byah kar diya…………
Short Description of Antastal PDF Book : My work is a widow. I had married her with Haji Muhammad. This man passed the literary mantana priest of the temple- and was the editor of the famous journal ‘Twenty-century’. First of all, it was composed in the eyes of the same person. He caressed it like a madman! I did not even care for my love and married her…………..
“केवल जानना पर्याप्त नहीं है, हमें अवश्य ही प्रयोग भी करना चाहिए। केवल इच्छा करना पर्याप्त नहीं है, बल्कि हमें कार्य करना भी चाहिए।” ‐ गोएथ
“Knowing is not enough; we must apply. Willing is not enough; we must do.” ‐ Goethe

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment