असामान्य मनोविज्ञान : श्री जगदानन्द पाण्डेय द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – मनोविज्ञान | Asamany Manovigyan : by Shri Jagadanand Pandeya Hindi PDF Book – Psychology (Manovigyan)

Book Nameअसामान्य मनोविज्ञान / Asamany Manovigyan
Author
Category, ,
Language
Pages 348
Quality Good
Size 18.75 MB
Download Status Available

असामान्य मनोविज्ञान  पीडीऍफ़ पुस्तक का संछिप्त विवरण :  सामान्य मनोविज्ञान जिन-जिन विषयो का अध्ययन करता है या जिन-जिन विषयों पर
प्रकाश डालता है उन्हीं को हम इसके विषय-विस्तार के अन्तर्गत रखते हैं। हम जानते हैं कि असामान्य
मनोविज्ञान असामान्य अनुभूतियो और व्यवहार को समझ- कर उनका वर्णन उनके नियत्रण एवं मार्गोपदेशन
के लिए करता है। इसका एकमात्र ध्येय असामान्यता के कारणों को जानकर उनका निराकरण करना ओर
मनुष्यों को अभि योजनशील बनाना है। अतएव यह अचेतन मन के विभिन्न.

Asamany Manovigyan PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Manovigyan Jin-Jin Vishayo ka Adhyayan karata hai ya jin-jin vishayon par prakash dalata hai unheen ko ham isake vishay-vistar ke Antargat Rakhate hain. Ham Janate hain ki Asamany Manovigyan Asamany Anubhootiyo aur Vyavahar ko samajh- kar unaka varnan unake niyatran evan margopadeshan ke liye karata hai. Isaka Ekamatra dhyey asamanyata ke karanon ko jankar unaka Nirakaran karana or Manushyon ko abhi Yojanasheel banana hai. Atev yah Achetan man ke Vibhinn……..

Short Description of Asamany Manovigyan Hindi PDF Book : The subjects which general psychology studies or the subjects which it throws light on, we keep them under the scope of its subject. We know that abnormal psychology understands abnormal feelings and behavior and describes them for their control and guidance. Its sole aim is to solve the abnormalities by knowing the causes of abnormalities and making humans purposeful. Therefore, it is different from the unconscious mind ..

 

“अच्छी किताब एक जादुई कालीन की तरह है जो आहिस्ते से हमें उस दुनिया की सैर कराती है जहां दूसरी किसी चीज़ के ज़रिए हम प्रवेश नहीं कर सकते।” ‐ कैरोलीन गॉर्डोन (१८९५-१९८१)
“A well-composed book is a magic carpet on which we are wafted to a world that we cannot enter in any other way.” ‐ Caroline Gordon (1895-1981)

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment