प्रकाशन-विज्ञान : श्री ज्योतिस्वरुप सकलानी द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – मनोविज्ञान | Prakashan Vigyan : by Shri Jyotiswarup Saklani Hindi PDF Book – Psychology (Manovigyan)

प्रकाशन-विज्ञान : श्री ज्योतिस्वरुप सकलानी द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - मनोविज्ञान | Prakashan Vigyan : by Shri Jyotiswarup Saklani Hindi PDF Book - Psychology (Manovigyan)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name प्रकाशन-विज्ञान / Prakashan Vigyan
Author
Category,
Language
Pages 417
Quality Good
Size 29.4 MB
Download Status Available

प्रकाशन-विज्ञान  पीडीऍफ़ पुस्तक का संछिप्त विवरण  : शिक्षक की द्रष्टि में मनोविज्ञान से बढ़कर और कोई अन्य विज्ञान नहीं है | केवल विषय-
ज्ञान का होना ही उसके लिए पर्याप्त नहीं है | यदि उसको बच्चो में व्यक्क्तित्व और मौलिकता आदि उत्कृष्ट
गुणों को उत्पन्न करना है, तो उसे बच्चो का ज्ञान प्राप्त करना भी अनिवार्य है | जान आदम्स का यह कहना
अक्षरश: सत्य है कि जो शिक्षक जान को लैटिन पढ़ाता

Prakashan Vigyan PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Shikshak ki drashti mein manovigyan se badhkar aur koi any vigyan nahin hai. Keval vishay-gyan ka hona hi uske lie paryapt nahin hai. Yadi usko bachcho mein vyakktitv aur maulikta aadi utkrsht gunon ko utpnn karna hai, to use bachcho ka gyan prapt karna bhi anivary hai. Jaan aadams ka yah kahna aksharash: saty hai ki jo shikshak jaan ko laitin padhata ho…………

Short Description of Prakashan Vigyan Hindi PDF Book  : There is no other science than psychology in terms of teacher. It is not enough for them to have knowledge only. If he has to create excellent qualities such as personality and originality in children, then it is also necessary to acquire knowledge of children. It is true that Jinn Adams says that the teacher who teaches life to Latin…………….

 

“शुरूआत करने का तरीका है कि मुंह बंद करें और काम में लगें।” ‐ वॉल्ट डिज़्नी
“The way to get started is to quit talking and begin doing.” ‐ Walt Disney

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment