सभी मित्र, हस्तमैथुन के ऊपर इस जरूरी विडियो को देखे और नाम जप की शक्ति को अपने जीवन का जरुरी हिस्सा बनाये
वीडियो देखें

हिंदी संस्कृत मराठी ब्लॉग

आत्म विकास की राहें / Atma Vikas Ki Rahen

आत्म विकास की राहें : नित्यानन्द पटेल द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - सामाजिक | Atma Vikas Ki Rahen : by Nityanand Patel Hindi PDF Book - Social (Samajik)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name आत्म विकास की राहें / Atma Vikas Ki Rahen
Author
Category
Language
Pages 249
Quality Good
Size 21.5 MB
Download Status Available

सभी मित्र हस्तमैथुन के ऊपर इस जरूरी विडियो को देखे, ज्यादा से ज्यादा ग्रुप में शेयर करें| भगवान नाम जप की शक्ति को पहचान कर उसे अपने जीवन का जरुरी हिस्सा बनाये|

पुस्तक का विवरण : कोई कभी चाहता कि समाज में अश्रद्धा की ही प्रधानता हो। अगर समाज मे, मनुष्य-जीवन में एकरागता न रही तो सर्वत्र अव्यवस्था ही हो जायेगी। इतना ही नहीं व्यक्ति के जीवन में भी कभी एक विचार कभी दूसरा विचार, कभी दृण निश्चय, कभी शिथिलता, ऐसी अव्यवस्था हो जाएगी। समाज तो मतभेदों का काफी आदि है,लेकिन एक ही कुटुंब परिवार में अगर……..

Pustak Ka Vivaran : Koi Kabhi chahata ki samaj mein ashraddha kee hee pradhanata ho. Agar samaj me, Manushy-jeevan mein ekaragata na rahi to sarvatr avyavastha hee ho jayegi. Itana hee nahin vyakti ke jeevan mein bhee kabhi ek vichar kabhi doosara vichar, kabhi drn nishchay, kabhee shithilata, aisee avyavastha ho jayegi. Samaj to matabhedon ka kaphi aadi hai,lekin ek hee kutumb parivar mein agar………..
Description about eBook : Nobody ever wanted that faithlessness should prevail in society. If there is no harmony in society, in human life, then there will be chaos everywhere. Not only this, in the life of a person, sometimes one thought, sometimes another thought, sometimes visual determination, sometimes laxity, such chaos will occur. Society is a lot of differences, but if in the same family………..
“हंसी के क्षणों के बिना बीता दिन सबसे खराब दिन है।” ‐ ई ई कम्मिंग्स
“The most wasted of all days is one without laughter.” ‐ E E Cummings

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Leave a Comment