बाल विकास की दिशाएँ : सुबुद्धि गोस्वामी द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – सामाजिक | Bal Vikas Ki Dishaen : by Subuddhi Goswami Hindi PDF Book – Social (Samajik)

Book Nameबाल विकास की दिशाएँ / Bal Vikas Ki Dishaen
Author
Category,
Language
Pages 166
Quality Good
Size 9 MB
Download Status Available

बाल विकास की दिशाएँ का संछिप्त विवरण : जिस घर में शिशु अपने अभिभावकों व माता-पिता को अकारण झगड़ते, चिल्लाते और कलह करते देखेगा, उसमें परिजनों के प्रति आदर व आस्था कैसे जाग सकेगी? घृणा, सन्देह और अविश्वास का वातावरण शिशुओं और बच्चों के स्वाभाविक संवेगात्मक विकास में बाधक होता है। ऐसी बातों का कुप्रभाव उनके मन-मस्तिष्क का विकास रोक देता है और उनकी गतिविधियाँ समाज-विरोधी होने लगती हैं ……….

Bal Vikas Ki Dishaen PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Jis Ghar Mein Shishu Apane Abhibhavakon va Mata-Pita ko Akaran jhagadate, chillate aur kalah karate dekhega, usamen parijanon ke prati aadar va aastha kaise jag sakegi? Ghrna, Sandeh aur Avishvas ka Vatavaran shishuon aur bachchon ke svabhavik Sanvegatmak vikas mein Badhak hota hai. Aise Baton ka Kuprabhav unake man-mastishk ka vikas rok deta hai aur unaki Gatividhiyan samaj-Virodhi hone lagati hain ………..
Short Description of Bal Vikas Ki Dishaen PDF Book : In the house where the child will see his parents and parents quarreling, shouting and quarreling without any reason, how will respect and faith in the family awaken? An environment of hatred, suspicion and mistrust hinders the natural emotional development of infants and children. The ill effects of such things stop the development of their mind and brain and their activities start to be anti-social …………
“जब अवसर आता है तो तत्पर रहें।किस्मत वह समय है जब तैयारी और अवसर की मुलाकात होती है।” राय डी. चैपिन जूनियर
“Be ready when opportunity comes…Luck is the time when preparation and opportunity meet.” Roy D. Chapin Jr

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment