भगवान आज ही मिल सकते हैं : स्वामी श्रीरामसुखदासजी द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – आध्यात्मिक | Bhagwan Aaj Hi Mil Sakate : by Svami Ramsukhdas Ji Hindi PDF Book – Spiritual (Adhyatmik)

Book Nameभगवान आज ही मिल सकते हैं / Bhagwan Aaj Hi Mil Sakate
Author
Category, ,
Language
Pages 16
Quality Good
Size 1.77 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : अगर आप विचार कर ले कि भगवान आज मिलेंगे तो वे आज ही मिल जायेंगे। परन्तु मन में यह छाया नहीं आनी चाहिए कि इतनी जल्दी कैसे मिलेंगे ? भगवान आप के कर्मों से अटकते नहीं। अगर आपके दुष्कर्म से, पाप कर्म से भगवान अटक जाए तो वे मिलकर भी कया निहाल करेंगे ? परन्तु भगवान किसी कर्म से अटकते नहीं। ऐसी की शक्ति है ही नहीं, जो भगवान को मिलने से रोक दे…….

Pustak Ka Vivaran : Agar Aap vichar kar le ki bhagavan Aaj milenge to ve Aaj hee mil jayenge. Parantu man mein yah chhaya nahin Aani chahiye ki itani jaldi kaise milenge ? bhagvan aap ke karmon se atakate nahin. Agar Apake dushkarm se, pap karm se bhagavan atak jaye to ve milakar bhee kya nihaal karenge ? Parantu bhagvan kisi karm se atakate nahin. Aisi ki shakti hai hee nahin, jo bhagavan ko milane se rok de…………

Description about eBook : If you consider that God will meet today, he will meet today. But this shadow should not come in your mind that how will we meet so soon? God does not get stuck with your deeds. If God gets stuck with your misdeeds, sin deeds, then what will they do together? But God does not get stuck with any action. There is no power that prevents God from meeting………..

“छोटी छोटी बातों का आनंद उठाइए, क्योंकि हो सकता है कि किसी दिन आप मुड़ कर देखें तो आपको अनुभव हो कि ये तो बड़ी बातें थीं।” ‐ रॉबर्ट ब्राल्ट
“Enjoy the little things, for one day you may look back and realize they were the big things.” ‐ Robert Brault

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment