भारतीय इतिहास की रूपरेखा : जयचंद्र विद्यालंकार द्वारा हिन्दी पीडीएफ़ पुस्तक | Bhartiya Itihas Ki Rooprekha : by Jaychandra Vidyalankar Hindi PDF Book

भारतीय इतिहास की रूपरेखा : जयचंद्र विद्यालंकार द्वारा हिन्दी पीडीएफ़ पुस्तक | Bhartiya Itihas Ki Rooprekha : by Jaychandra Vidyalankar Hindi PDF Book
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name भारतीय इतिहास की रूपरेखा / Bhartiya Itihas Ki Rooprekh
Author
Category, ,
Pages 502
Quality Good
Size 76 MB
Download Status Available

भारतीय इतिहास की रूपरेखा का संछिप्त विवरण : अन्तिम शैशुनाक राजा का उत्तराधिकारी महापग्म नन्द था। पुराणों के अनुसार वह महानन्दो का ही शूद्रा से पैदा हुआ बेटा था, जैन अनुश्रुति यह है कि बह एक नाई का बेटा था। एक यूनानी लेखक ने लिखा है कि वह एक नाई था, किन्तु रानी उस पर आसकक्‍त हो गई थी, और धीरे धीरे बह राजकुमारों का अभिभावक बन कर अन्त में उन्हें मार कर स्वयं राजा बन बैठा था । उस का दूसरा नाम उग्रसेन भी था………

 

Bhartiya Itihas Ki Rooprekh PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Antim shaishunak raja ka uttaradhikari mahapadm nand tha. Puranon ke anusar vah mahanando ka hi shoodra se paida hua beta tha, jain anushruti yah hai ki vah ek nai ka beta tha. Ek yoonani lekhak ne likha hai ki vah ek nai tha, kintu rani us par asakt ho gai thi, aur dhire dhire vah rajakumaron ka abhibhavak ban kar ant mein unhen mar kar svayam raja ban baitha tha. Us ka doosara nam ugrasen bhi tha………….
Short Description of Bhartiya Itihas Ki Rooprekh PDF Book : Mahapadam Nand was the successor of the last Shishuanka king. According to the Puranas, he was a son of Mahanando from Shudra, the Jain observatory is that he was the son of a barber. A Greek writer has written that he was a barber, but the queen became enamored of him, and gradually becoming the guardian of the princes, she finally became a king by killing them. His second name was Ugrasen…………..
“बुद्धिमान व्यक्तियों की प्रंशसा की जाती है; धनवान व्यक्तियों से ईर्ष्या की जाती है; बलशाली व्यक्तियों से डरा जाता है, लेकिन विश्वास केवल चरित्रवान व्यक्तियों पर ही किया जाता है।” ‐ अल्फ्रेड एडलर
“Men of genius are admired, men of wealth are envied, men of power are feared; but only men of character are trusted.” ‐ Alfred Adler

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment