बिहारी सतसई : प्रो. विराज एम0 ए0 द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – काव्य | Bihari Satsai : by Prof. Viraj M. A. Hindi PDF Book – Poetry (Kavya)

बिहारी सतसई : प्रो. विराज एम0 ए0 द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - काव्य | Bihari Satsai : by Prof. Viraj M. A. Hindi PDF Book - Poetry (Kavya)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name बिहारी सतसई / Bihari Satsai
Author
Category, , , ,
Language
Pages 354
Quality Good
Size 6.50 MB
Download Status Available

बिहारी सतसई का संछिप्त विवरण : वह नगर वाला राधा मेरे इस संसार के कष्टों को दूर करें, जिनके शरीर की छाया पड़ते ही श्याम अर्थात कृष्ण प्रसन्न हो उठते है। श्याम का अर्थ नीला होता है, इस दृष्टि से श्लेष अलंकार के कारण इस दोहे का अर्थ यह भी होगा कि वह राधा मेरे दुःख दूर करें, जिनके शरीर की छाया पड़ने से नीला रंग हरा पड़ जाता…….

Bihari Satsai PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Vah Nagar vala Radha mere is sansar ke kashton ko door karen, jinake shareer kee chhaya padate hee shyam arthat krshn prasann ho uthate hai. Shyam ka arth neela hota hai, is drshti se shlesh alankar ke karan is dohe ka arth yah bhee hoga ki vah Radha mere duhkh door karen, jinake shareer kee chhaya padane se neela rang hara pad jata hai………….
Short Description of Bihari Satsai PDF Book : Radha, that city, remove the sufferings of this world of mine, Shyam i.e.Krishna gets pleased as soon as the shadow of his body falls. The meaning of Shyam is blue, due to the puny ornamentation, this couplet will also mean that Radha will take away my sorrows, whose blue color turns green due to the shadow of her body………..
“अगर आप किसी चीज़ का सपना देख सकते हैं तो उसे पा भी सकते हैं।” ज़िग ज़िग्लर
“If you can dream it, you can achieve it.” Zig Ziglar

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment