चक्कर क्लब : यशपाल द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – उपन्यास | Chakkar Klab : by Yashpal Hindi PDF Book – Novel (Upanyas)

Book Nameचक्कर क्लब / Chakkar Klab
Author
Category, ,
Language
Pages 140
Quality Good
Size 4 MB
Download Status Available

पुस्तक का बिवरण : चक्कर-क्लब के दार्शनिक एक अजीब मुसीबत में फंस गये | मुसीबत भी ऐसी की उसकी कल्पना कर पाना भी कभी सम्भव न था | उनकी उस मुसीबत के लिए दोष भी किसको दिया जाय ? एक तरह से दार्शनिक को चाहिए था कि उन्हें मुसीबत मैं फ़सानें बालों का धन्यवाद देते ठीक उसी तरह, जैसे कि तांगे वालों के मुंह से अकसर सुनते है – “आशिके नामुराद को लाजिम है…….

Pustak Ka Vivaran : Chakkar-klab ke Darshanik ek ajeeb musibat mein phans gaye. Musibat bhi aisi ki usaki kalpana kar pana bhi kabhi sambhav na tha. Unaki us musibat ke liye dosh bhi kisako diya jay ? Ek tarah se darshanik ko chahiye tha ki unhen musibat mein fasanen valon ka dhanyavad dete theek usi tarah, jaise ki tange valon ke munh se akasar sunate hai – Ashike Namurad ko Lajim hai………….

Description about eBook : Chakkar-club philosophers got stuck in a strange trouble. Trouble was such that such an idea could never be possible. Whose fault can be given to them for that trouble? In a way, the philosopher wanted that he would give thanks to the people in trouble, in the same way, as often as they hear from the mouth of the strangers – “Ashkhi Namrad is indispensable…………..

“जब तक किसी व्यक्ति द्वारा अपनी संभावनाओं से अधिक कार्य नहीं किया जाता है, तब तक उस व्यक्ति द्वारा वह सब कुछ नहीं किया जा सकेगा जो वह कर सकता है।” – हेनरी ड्रम्मन्ड
“Unless a man undertakes more than he possibly can do, he will never do all that he can.” – Henry Drummond

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment