सभी मित्र, हस्तमैथुन के ऊपर इस जरूरी विडियो को देखे और नाम जप की शक्ति को अपने जीवन का जरुरी हिस्सा बनाये
वीडियो देखें

हिंदी संस्कृत मराठी ब्लॉग

यन्त्र विधान / Yantra Vidhan

यन्त्र विधान : योगिराज यशपाल द्वारा हिंदी पीडीऍफ पुस्तक - तंत्र मन्त्र | Yantra Vidhan : by Yogiraj Yashpal Hindi PDF Book - Tantra Mantra
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name यन्त्र विधान / Yantra Vidhan
Author
Category, ,
Language
Pages 194
Quality Good
Size 22 MB
Download Status Not Available
आप इस पुस्तक को नीचे दिए गए लिंक से खरीद सकते हैं, यह डाउनलोड हेतु उपलब्ध नहीं है|
चेतावनी यह पुस्तक केवल शोध कार्य के लिए है| इस पुस्तक से होने वाले परिणाम के लिए आप स्वयं उत्तरदायी होंगे न कि 44Books.com

पुस्तक का विवरण : आज के वैज्ञानिक युग में जो स्थिति रसायन विज्ञान की है| समझना और जानना होता है कि त्रिशूल का प्रयोग यन्त्र में कहाँ और क्यों किया जाता है? रेखाचित्रों का क्या मायाजाल है? शब्दों का जादू क्या है? वृत्तऔर चतुर्भुज से क्या तात्पर्य है? लिखने की सामग्री तथा उनकी प्रयोग विधि- यह सब ही तो यन्त्र विज्ञान है…………..

Pustak ka vivaran : Aaj ke vaigyanik yug mein jo sthiti Rasayan vigyan ki hai. Samajhana aur janana hota hai ki trishool ka prayog yantr mein kahan aur kyon kiya jata hai? Rekhachitron ka kya mayajal hai? Shabdon ka jadoo kya hai ? Vrttaur chaturbhuj se kya tatpary hai ? Likhane ki samagri tatha unki prayog vidhi- Yah sab hi to yantra vigyan hai………….

Description about eBook : In today’s scientific age the situation is of chemistry. To understand and to know, Trishul is used in the Yantra where and why? What is the magic of diagrams? What is the magic of words? What does the quadrilateral and quadrilateral mean? The content of writing and their method of use- it is all just science……………..

“खुशी कोई बनी बनाई वस्तु नहीं है। यह तो आपके कर्मों के परिणाम में निहित है।” दलाई लामा
“Happiness is not something ready made. It comes from your own actions.” Dalai Lama

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

5 thoughts on “यन्त्र विधान / Yantra Vidhan ”

  1. यदि पुस्तकें अमेज़न किंडल पर पढ़ने योग्य फॉर्मेट में उपलब्ध करा सकें तो अत्यंत उत्तम होगा

    Reply

Leave a Comment