क्षण भर की दुल्हन : यादवेन्द्र शर्मा ‘ चन्द्र ‘ द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – कहानी | Chhan Bhar Ki Dulhan : by Yadvendra Sharma ‘Chandra’ Hindi PDF Book – Story (Kahani)

Book Nameक्षण भर की दुल्हन / Chhan Bhar Ki Dulhan
Author
Category, , , ,
Language
Pages 159
Quality Good
Size 3.5 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : एक दो मिनट वह वैसा ही खड़ा रहा | और फिर वह उसके पास गया और पैटपर सिर रख दिया न जाने कहाँ से उसकी रुलाई आने लगी और वह रोने लग गया | लोगो के किये हुए अपमान, व्यंग का दुखः बहने लगा | पर वह तब तक ही था जब तक माँ सो रही थी | वह कहता था कि वह सोयी हर कि तब तक उस गोद को अपनी गोद समज सके जिस गोद में उसने आश्रय पाया है……..

Pustak Ka Vivaran : Ek do mint vah vaisa hi khada raha. Aur phir vah uske pas gaya aur petpar sir rakh diya na jane kahan se uski rulai ane lagi aur vah rone lag gaya. Logo ke kiye hue apman, vyang ka dukhah bahane laga. Par vah tab tak hi tha jab tak man so rahi thi. Vah kahta tha ki vah soyi hi rahe ki tab tak us god ko apni god samaj sake jis god mein usne ashray paya hai………

Description about eBook : It stood like that for a couple of minutes. And then he went to him and put his head on his belly, from where his rallation started and he started crying. The humiliation of the people, the sorrow of satire began to subside. But she was only as long as Mother was sleeping. He used to say that he remained comfortable so that by adopting the lap as his lap he could find shelter………

“हमारे द्वारा कार्य के लिए लगाए गए समय महत्त्व का इतना नहीं है, जितना महत्त्व इस बात का है कि लगाए गए समय के दौरान हमने कितनी गंभीरता से प्रयास किया।” ‐ सिडने मैडवैड.
“It is not the hours we put in on the job, it is what we put into the hours that counts.” ‐ Sidney Madwed

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment