अपनी धरती – अपना त्याग : यादवेन्द्र शर्मा ‘चन्द्र’ द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – कहानी | Apni Dharati – Apna Tyag : by Yadvendra Sharma ‘Chandra’ Hindi PDF Book – Story (Kahani)

Book Nameअपनी धरती - अपना त्याग / Apni Dharati - Apna Tyag
Author
Category, ,
Language
Pages 120
Quality Good
Size 2 MB
Download Status Available

अपनी धरती –  अपना त्याग  पीडीऍफ़ पुस्तक का संछिप्त विवरण : जरुरत है। ” सदा की तरह सुप्रिया यही सुनती आई है। केवल इतना ही जरुरत है और
साथ उसके मन पर करुणा का सागर लहरा उठता था। एक ऐसी असहा वेदना जिसे सुप्रिया सहन नहीं कर
पाती थी और वह चुपचाप रुपये उसे निकाल कर दे देती थी। वह कमरे के किवाड़ों, खूटियों व बरामदे की
दीवारों पर कपडे सुखाती रही। उसने असीम की ओर देखा तक…

Apni Dharati – Apna Tyag  PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Jarurat hai. Sada ki Tarah supriya yahi sunati aayi hai. Keval itana hi jarurat hai aur sath usake man par karuna ka sagar lahara uthata tha. Ek aisee asahy vedana jise supriya sahan nahin kar Pati thee aur vah chupachap Rupaye use Nikal kar de deti thee. Vah kamare ke kivadon, khootiyon va baramade ki deevaron par kapade sukhatee rahi. usane aseem ki or dekha tak……….

Short Description of Apni Dharati – Apna Tyag Hindi PDF Book : ‘Is necessary. Supriya has heard this as always. This is the only need and at the same time, an ocean of compassion used to flow on his mind. One such unbearable pain that Supriya could not bear, and she silently gave away the money to him. She kept drying the doors of the room, the barns and the walls of the verandah. He looked up to the limitless ……

 

“अपने मित्र में मुझे अपनी एक और अस्मिता दिखाई देती है।” ‐ इसाबेल नॉर्टन
“In my friend, I find a second self.” ‐ Isabel Norton

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment