दर्द बे अन्दाज़ : सुरेन्द्र चतुर्वेदी द्वारा हिन्दी पीडीएफ़ पुस्तक | Dard Be Andaaz : by Surendra Chaturvedi Hindi PDF Book

दर्द बे अन्दाज़ : सुरेन्द्र चतुर्वेदी द्वारा हिन्दी पीडीएफ़ पुस्तक | Dard Be Andaaz : by Surendra Chaturvedi Hindi PDF Book
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name दर्द बे अन्दाज़ / Dard Be Andaaz
Author
Category
Pages 78
Quality Good
Size 1 MB
Download Status Available

दर्द बे अन्दाज़ का संछिप्त विवरण : लोग उस बस्ती के आगे इस कदर मोहताज थे, थी जुबा खुद की मगर, मांगे हुए अलफाज थे। काँच को ओढ़े खड़ी थी, उस शहर की रोशनी,जिस शहर के लोग, सब के सब निशानने बाज़ थे। वह मेडक थी या तवायफ का कोई अहमान थी, जिस मडक मे आते जाते लोग बे आवाज थे…….

Dard Be Andaaz PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : log us bastee ke aage is kadar mohataaj the, thee juba khud kee magar, maange hue alaphaaj the. kaanch ko odhe khadee thee, us shahar kee roshanee,jis shahar ke log, sab ke sab nishaanane baaz the. vah medak thee ya tavaayaph ka koee ahamaan thee, jis madak me aate jaate log be aavaaj the…………..
Short Description of Dard Be Andaaz PDF Book : People were so fascinated by that settlement, that Juba was his own but demanded alphabets. The glass was overlaid, the light of that city, the people of the city, all of them were fools. It was Medak or there was no ehaan of Tawaif, people who used to come to Madaki were bay voices……………
“दूसरे क्या कर रहे हैं उसकी परवाह न करें; अपने आप से बेहतर करें, दिनोंदिन अपने ही रेकॉर्ड को तोड़े, और आप कामयाबी हासिल कर लेंगे।” विलियम बॉट्कर
“Never mind what others do; do better than yourself, beat your own record from day to day, and you are a success.” William Boetcker

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment