देहाती दुनिया : शिवपूजन सहाय द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – साहित्य | Dehati Duniya : by Shivpujan Sahay Hindi PDF Book – Literature (Sahitya)

Book Nameदेहाती दुनिया / Dehati Duniya
Author
Category, , ,
Language
Pages 200
Quality Good
Size 7 MB
Download Status Available

देहाती दुनिया का संछिप्त विवरण : रामसहर बहुत बड़ा गांव है। बस्ती के चारों ओर आम के घने बाग है। दूर से गांव नजर नहीं आता। हाँ, बाबू रामटहल सिंह के घर के सामने जो एक ऊँचा मन्दिर है, उसका कलस बड़ी दूर से देख पड़ता है। वह बाबू साहब के पिता सरबजीत सिंह का बनवाया हुआ पत्थर का पंचमंदिर है। गांव वाले उसे ‘पंचमन्दिल’ कहते है………..

Dehati Duniya PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Ramsahar bahut bada ganv hai. Basti ke charon or Aam ke ghane bag hai. Door se Ganv najar nahin aata. Han, babu Ramtahal sinh ke ghar ke samane jo ek ooncha mandir hai, usaka kalas badi door se dekh padata hai. Vah babu sahab ke Pita sarabajeet sinh ka banvaya huya patthar ka panchamandir hai. Ganv vale use panchamandil kahate hai ……….
Short Description of Dehati Duniya PDF Book : Ramsahar is a very big village. There are dense mango groves around the township. The village is not visible from a distance. Yes, the tall temple in front of Babu Ramthal Singh’s house is seen from a long distance. He is a stone panch temple built by Babu Saheb’s father Sarabjit Singh. The villagers call him ‘Panchamandil’……….
“अपनी आयु की गिनती अपने मित्रों से करें, वर्षों से नहीं। अपने जीवन को मुस्कुराहटों से आंके, अश्रुओं से नहीं।” ‐ जॉन लेनन
“Count your age by your friends, not years. Count your life by smiles, not tears.” ‐ John Lennon

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment