काय चिकित्सा : गंगा सहाय पाण्डेय द्वारा हिन्दी पीडीएफ़ पुस्तक | Kaya-Chikitsa : by Ganga Sahay Pandey Hindi PDF Book

काय चिकित्सा : गंगा सहाय पाण्डेय द्वारा हिन्दी पीडीएफ़ पुस्तक | Kaya-Chikitsa : by Ganga Sahay Pandey Hindi PDF Book
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name काय चिकित्सा / Kaya-Chikitsa
Author
Category,
Pages 986
Quality Good
Size 119 MB
Download Status Available

काय चिकित्सा का संछिप्त विवरण : प्रतिकर्म विज्ञान को प्रारम्भ रोगविज्ञान या रोगविनिश्चय से होता है। चिकित्सक जिस व्याधि को प्रतिकार करना चाहता है, जब तक भली प्रकार उस व्याधि की जानकारी प्राप्त न कर लेगा, चिकित्सा में सफलता नहीं प्राप्त कर सकता। इसी इश्टि से महर्षि पुनर्वसु आब्रेय ने महर्षि अग्निवेश को प्रारम्भ में रोग की सम्यक्‌ परीक्षा करने के बाद ही औषध एवं प्रतिकर्म का विनियोजन करना चाहिए इस आशय का उपदेश दिया……..

Kaya-Chikitsa PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Pratikarm vigyan ko prarambh rogavigyan ya rogavinishchay se hota hai. Chikitsak jis vyadhi ko pratikar karana chahata hai, jab tak bhali prakar us vyadhi ki janakari praapt na kar lega, chikitsa mein saphalata nahin prapt kar sakata. Isi drshti se maharshi punarvasu atrey ne maharshi agnivesh ko prarambh mein rog ki samyak pariksha karane ke bad hi aushadh evam pratikarm ka viniyojan karana chahie is ashay ka upadesh diya…………
Short Description of Kaya-Chikitsa PDF Book : Reproductive science starts with pathology or pathology. Until the doctor wants to resist the disease, he will not get any information about the condition, he can not achieve success in medicine. In this sense, Maharishi Reshwa Atreya preached the idea that Maharishi Agnivesh should initially adopt drug and reactions only after proper examination of the disease…………..
“यदि आपने अपनी मनोवृतियों पर विजय प्राप्त नहीं की, तो मनोवृत्तियां आप पर विजय प्राप्त कर लेंगी।” ‐ नेपोलियन हिल
“If you do not conquer self, you will be conquered by self.” ‐ Napoleon Hill

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment