दिल्ली लौह – स्तंभ (प्राचीन भारतीय धातुशिल्प का चमत्कार) : तं० रा० अनंतरमण द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – इतिहास | Delhi Lauh – Stambh (Prachin Bharatiya Dhatushilp Ka Chamtkar) : by T. R. Anantraman Hindi PDF Book – History (Itihas)

दिल्ली लौह - स्तंभ (प्राचीन भारतीय धातुशिल्प का चमत्कार) : तं० रा० अनंतरमण द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - इतिहास | Delhi Lauh - Stambh (Prachin Bharatiya Dhatushilp Ka Chamtkar) : by T. R. Anantraman Hindi PDF Book - History (Itihas)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name दिल्ली लौह – स्तंभ (प्राचीन भारतीय धातुशिल्प का चमत्कार) / Delhi Lauh – Stambh (Prachin Bharatiya Dhatushilp Ka Chamtkar)
Author
Category, , , ,
Language
Pages 142
Quality Good
Size 10.8 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : निस्संदेह, प्राचीन भारत ने लौहकर्म के क्षेत्र में महत्वपूर्ण प्रगति कर ली थी। दिल्‍ली के समीप का लौह-स्तंभ आधुनिक वैज्ञानिकों को भी आश्चर्यचकित कर रहा है। वे इसके निर्माण की उस विशेष पद्धति को समझ नहीं पा रहे हैं जिसके कारण यह स्तंभ आक्सीकरण व पर्यावरण के अन्य प्रभावों से बचा हुआ है…………

Pustak Ka Vivaran : Nissandeh, pracheen bharat ne lauhakarm ke kshetra mein Mahatvapurn pragati kar lee thee. Delhi ke sameep ka lauh-stambh aadhunik vaigyanikon ko bhi Aashcharyachakit kar raha hai. Ve isake Nirman ki us vishesh paddhati ko samajh nahin pa rahe hain jisake karan yah stambh Aakseekaran va paryavaran ke any prabhavon se bacha huya hai………..

Description about eBook : Undoubtedly, ancient India had made significant progress in the field of iron work. The iron pillar near Delhi is surprising even modern scientists. They do not understand the particular method of its construction, due to which this pillar is saved from oxidation and other environmental effects ………..

“यदि आप में आत्मविश्वास नहीं है तो आप हमेशा न जीतने का बहाना खोज लेंगे।” ‐ कार्ल लेविस
“If you don’t have confidence, you’ll always find a way not to win.” ‐ Carl Lewis

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment