द्रौपदी : प्रतिभा राय द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – उपन्यास | Draupadi : by Pratibha Rai Hindi PDF Book – Novel (Upanyas)

Book Nameद्रौपदी / Draupadi
Author
Category, , , ,
Language
Pages 262
Quality Good
Size 2.7 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : इति कर देने के बाद लगता है जैसे कुछ भी नहीं लिख पाई। महाजीवन की लम्बी सुख-दुःखों भरी कहानी महाकाल के वक्ष पर खाली पन्ने की तरह पड़ी है। जैसे मृत्यु-पथ का यात्री इस संसार में सब-कुछ छोड़कर जाता है। ऐसा सोचें भले ही, दरअसल वह कुछ भी छोड़कर नहीं जाता। बस यह भंगुर काया छोड़ जाता है, वह भी उसकी नहीं। आत्मा उड़ जाती है, वह भला उसकी होती ही कहां है…….

Pustak Ka Vivaran : Iti kar dene ke bad lagta hai jaise kuchh bhi nahin likh payi. Mahajeevan ki Lambi sukh-duhkhon bhari kahani Mahakal ke vaksh par khali panne ki tarah padi hai. Jaise mrtyu-path ka yatri is sansar mein sab-kuchh chhodkar jata hai. Aisa sochen bhale hi, darsal vah kuchh bhi chhodkar nahin jata. Bas yah bhangur kaya chhod jata hai, vah bhi uski nahin. Atma ud jati hai, vah bhala uski hoti hi kahan hai……

Description about eBook : After doing this, it seems as if I could not write anything. The long happy and sad story of Mahajivan is lying like a blank page on the chest of Mahakal. Just as a traveler on the path of death leaves everything in this world. Think so, even if in reality he doesn’t leave anything. Only this brittle body is left behind, that too not his. The soul flies away, where does it belong to him…….

“आप जिस कार्य को कर रहे हैं उस पर पूरे मनोयोग से ध्यान केंद्रित करें। सूर्य की किरणों से उस समय तक अग्नि प्रज्जवलित नहीं होती है जब तक उन्हें केन्द्रित नहीं किया जाता है।” ‐ अलेक्जेंडर ग्राहम बैल
“Concentrate all your thoughts upon the work at hand. The sun’s rays do not burn until brought to a focus.” ‐ Alexander Graham Bell

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment