कोणार्क : प्रतिभा राय द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – उपन्यास | Konark : by Pratibha Rai Hindi PDF Book – Novel (Upanyas)

Book Nameकोणार्क / Konark
Author
Category, , , , ,
Language
Pages 212
Quality Good
Size 2.6 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : यह कोई इतिहास नहीं है, यहां इतिहास-दृष्टि भी प्रमुख नहीं है-साहित्य दृष्टि ही इसके प्राणों में है। इस कृति में केवल पत्थरों पर तराशी गई कलाकृतियों का मार्मिक चित्रण नहीं है। उड़िया जाति की कलाप्रियता और कलात्मक ऊंचाइयों की ओर संकेत करते हुए लेखिका ने उस कोणार्क मंदिर को चित्रित किया है जो आज भारतीय कला-कौशल, कारीगरी एवम्‌ आदर्शों का एक भग्न स्तूप है………..

Pustak Ka Vivaran : Yah koi Itihas nahin hai, yahan Itihas-drshti bhi Pramukh nahin hai-sahity drshti hi iske pranon mein hai. Is krti mein keval pattharon par tarashi gayi kalakrtiyon ka marmik chitran nahin hai. Udiya jati ki kalapriyata aur kalatmak Unchaiyon ki or sanket karate huye lekhika ne us konark mandir ko chitrit kiya hai jo Aaj Bharatiya kala-kaushal, karigari evam‌ Aadarshon ka ek bhagn stoop hai……

Description about eBook : This is not history, here the vision of history is also not prominent – ​​the literary vision is in its life. In this work there is not only poignant depiction of artifacts carved on stone. The author has depicted the Konark temple, which is today a fractal stupa of Indian art-skills, craftsmanship and ideals, alluding to the artistic and artistic heights of the Oriya caste……..

“अपने से कम या अधिक हैसियत के लोगों से मित्रता न करें। ऐसी मित्रता आपको कभी कोई प्रसन्नता नहीं देगी।” ‐ चाणक्य
“Never make friendship with people who are above or below you in status. Such friendships will never give you any happiness.” ‐ Chanakya

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment