गगनभेदी : वसंत कानेटकर द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – नाटक | Gaganbhedi : by Vasant Kanetkar Hindi PDF Book – Drama (Natak)

Book Nameगगनभेदी / Gaganbhedi
Author
Category, , , , ,
Language
Pages 146
Quality Good
Size 3 MB
Download Status Available

गगनभेदी का संछिप्त विवरण : जो व्यवित अभी कुछ समय पूर्व तक प्यार और दुलार के सतरंगी रुदर्ग में विहार कर रहा था उसे अचानक ही अनुराग की कगार से नीचे ढकेल दिया गया है और वह बहाल घिनौनी दलदल में गिर पड़ा है । वह तलाश कर रहा है कि आवब्विर वह है कहाँ ? सारे नाते-रिश्तेदारों का गारा उसके अंग-अंग से सना हुआ है । इस दलदल भें वह टटोलकर देख रहा है……

Gaganbhedi PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Jo Vyavit Abhi Kuchh Samay Poorv tak pyar aur dular ke Satarangi rudarg mein vihaar kar raha tha use achanak hee anurag kee kagar se neeche dhakel diya gaya hai aur vah bahal Ghinauni daladal mein gir pada hai . Vah Talash kar raha hai ki Aavabvir vah hai kahan ? Sare Nate-Rishtedaron ka gara usake ang-ang se sana huya hai . Is Daldal bhen vah Tatolakar dekh raha hai………
Short Description of Gaganbhedi PDF Book : The man, who was still staying in the strangled Rudarg of love and affection until recently, has suddenly been pushed down from the brink of Anurag and has fallen into the restored disgusting swamp. He is searching for where is the avatar? The mortal remains of all the relatives are stained with his limbs. In this swamp he is looking frantically …….
“कोई छोटी-छोटी योजनाएं न बनाएं; उनमें मनुष्य को प्रेरित करने का कोई जादु नहीं समाया होता। बड़ी योजनाएं बनाएं, उच्च आशा रखें और काम करें।” – डैनियल एच. बर्नहम
“Make no little plans; they have no magic to stir men’s blood…Make big plans, aim high in hope and work.” – Daniel H. Burnham

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment