हिमालय की छाया : वसन्त कानेटकर द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – नाटक | Himalay Ki Chhaya : by Vasant Kanetkar Hindi PDF Book – Drama (Natak)

Book Nameहिमालय की छाया / Himalay Ki Chhaya
Author
Category, , , , ,
Language
Pages 118
Quality Good
Size 2 MB
Download Status Available

हिमालय की छाया का संछिप्त विवरण : उस वक्‍त जब ये बोलते थे, व्यवहार करते थे, वैसा न करते तो मेरे मन में टिका इनका रथ कब का जमीन पर लग गया होता । देखते क्या हो, गर्दन उठाकर आसमान की तरफ देखो ! और बताओ क्‍या कभी ऐसा हिमालय-पुरुष देखा है तुमने अपनी आंखों से ? देखते कैसे ? मैं नहीं देख पाई रे ! हम सभी खड़े थे उनके पांवों के पास उनकी छाया में। ऊपर…..

 Himalay Ki Chhaya PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Us Vak‍ta jab ye Bolate the, Vyavhar karate the, Vaisa na karate to mere man mein tika inaka rath kab ka jameen par lag gaya hota . Dekhate kya ho, Gardan uthakar Aasaman kee taraph dekho ! Aur Batao kya kabhi Aisa Himalay-Purush dekha hai Tumane Apani Ankhon se ? Dekhate kaise ? Main Nahin dekh paye re ! Ham Sabhi Khade the unake Panvon ke pas unaki chhaya mein. Upar………
Short Description of Himalay Ki Chhaya PDF Book : At the time when he used to speak, behave and not do that, his chariot would have been stuck on the ground. Look what you are, lift your neck and look at the sky! And tell me, have you ever seen such a Himalayan man with your own eyes? See how? I could not see! We were all standing near his feet in his shadow. up………
“हम अपने कार्यों के परिणाम का निर्णय करने वाले कौन हैं? यह तो भगवान का कार्यक्षेत्र है। हम तो एकमात्र कर्म करने के लिए उत्तरदायी हैं।” ‐ गीता
“Who are we to decide: what will be the outcome of our actions? It is God’s domain. We are just simply responsible for the actions.” ‐ Geeta

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment