गाँधी ऐसे थे : विष्णु नागर द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – इतिहास | Gandhi Ji Aise The : by Vishnu Nagar Hindi PDF Book – History (Itihas)

गाँधी ऐसे थे : विष्णु नागर द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - इतिहास | Gandhi Ji Aise The : by Vishnu Nagar Hindi PDF Book - History (Itihas)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name गाँधी ऐसे थे / Gandhi Ji Aise
Author
Category, , , ,
Language
Pages 12
Quality Good
Size 684 KB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : भारत की आज़ादी के बारे में बातचीत करने के लिए महात्मा जी पानी जहाज में इंग्लैंड जा रहे थे। जहाज में चढ़ने के बाद महात्मा जी ने अपने सामान की जाँच की। ढेर – सा सामान पाया। महात्मा जी ने अपने सेकेटरी महादेव से पूछा : “इतना सामान तुम तुम क्‍यों लाए ? क्या जरूरत थी इसकी ? महादेव भाई ने कहा कि दोस्तों ने हमें…

Pustak Ka Vivaran : Bharat kee Azadi ke bare mein batacheet karane ke liye mahatma ji pani jahaj mein England ja rahe the. Jahaj mein chadhane ke bad mahatma jee ne apane saman kee janch kee. Dher – sa saman paya. Mahatma jee ne apane seketari mahadev se poochha : Itana saman tum tum kyon laye ? Kya jaroorat thee isaki ? Mahadev bhai ne kaha ki doston ne hamen…………

Description about eBook : Mahatma ji was going to England in a water ship to talk about India’s independence. After boarding the ship, Mahatma Ji checked his luggage. Found a lot of stuff. Mahatma Ji asked his secretary Mahadev: “Why did you bring so much stuff?” What was needed? Mahadev Bhai said that friends have given us………..

“कठिनाईयां भगवान का संदेश होती हैं; और जब हमें उनका सामना करना पड़ता है तो हमें उनका भगवान के विश्वास के रुप में, भगवान से अभिनंदन के रुप में सम्मान करना चाहिए।” ‐ हेनरी वार्ड बीचर
“Difficulties are God’s errands; and when we are sent upon them, we should esteem it a proof of God’s confidence, as a compliment from God.” ‐ Henry Ward Beecher

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment