गर्व से कहो हमारी बेटियां हैं : विष्णु नागर द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – सामाजिक | Garv Se Kaho Hamari Betiyan Hain : by Vishnu Nagar Hindi PDF Book – Social (Samajik)

Book Nameगर्व से कहो हमारी बेटियां हैं / Garv Se Kaho Hamari Betiyan Hain
Author
Category, , , , , ,
Language
Pages 64
Quality Good
Size 1.8 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : देश के बहुत बड़े हिस्से में लड़कों की अपेक्षा लड़कियों का घटता अनुपात इस बात का प्रमाण है कि हमारे समाज में अभी भी सामान्यतः लड़कियों के जन्म को अच्छा नहीं माना जाता है। उन्हें अभी भी अभिशाप माना जाता है। लेकिन क्या सचमुच बेटियां अभिशाप हैं? हमने अपने समाज के कुछ उन संवेदनशील रचनाकर्मियों से इस बारे में बात की जिनकी सिर्फ बेटियां………..

Pustak Ka Vivaran : Desh ke bahut bade hisse mein ladakon ki Apeksha ladakiyon ka ghatata Anupat is bat ka Praman hai ki hamare Samaj mein Abhi bhi samanyatah ladakiyon ke janm ko Achchha nahin Mana jata hai. Unhen Abhi bhee Abhishap mana jata hai. Lekin kya Sachamuch betiyan Abhishap hain? Hamane Apane samaj ke kuchh un Sanvedanasheel Rachanakarmiyon se is bare mein bat kee jinaki sirph betiyan………

Description about eBook : The declining ratio of girls to boys in a large part of the country is proof that in our society still birth of girls is not generally considered good. He is still considered a curse. But are daughters really a curse? We talked to some sensitive composers of our society whose daughters only …….

“असफलता से सफलता की शिक्षा मिलती है।” ‐ जापनी कहावत
“Failure teaches success.” ‐ Japanese Saying

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment