गर्म हवा में लहराते परचम : प्रफुल्ल कोलख्यान द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – कविता | Garm Hava Mein Lahrate Parcham : by Prafull Kolakhyan Hindi PDF Book – Poem (Kavita)

गर्म हवा में लहराते परचम : प्रफुल्ल कोलख्यान द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - साहित्य | Garm Hava Mein Lahrate Parcham : by Prafull Kolakhyan Hindi PDF Book - Literature (Sahitya)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name गर्म हवा में लहराते परचम / Garm Hava Mein Lahrate Parcham
Author
Category, , ,
Language
Pages 3
Quality Good
Size 57 MB
Download Status Available

गर्म हवा में लहराते परचम का संछिप्त विवरण : बाजार में बहुत शोर है, ढोल का, नगाड़ों का और कहीं-कहीं विचारों का पूजन का, वंदन का, आरती का, साज-सजावट का, प्राणहीन स्पंदन का शोर की अपनी वेदना है, अपनी कहानी है, अपनी ही उदासी है, गति बहुत है इन सबसे पार पाने की बेइंतहा ख्वाहिशें हैं, शोर में यह शोर काटता भी है, परेशान भी करता है और बुलाता भी है बड़े प्यार से जो शोर में शामिल नहीं हैं, जिनमें शोर शामिल नहीं है……..

Garm Hava Mein Lahrate Parcham PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Bazar mein bahut shor hai, Dhol ka, Nagadon ka aur kahin-kahin Vicharon ka poojan ka, vandan ka, Aarati ka, saj-sajavat ka, pranahin spandan ka shor ki Apni vedana hai, apni kahani hai, apni hi udasi hai, gati bahut hai in sabase par pane ki Beintaha khvahishen hain, shor mein yah shor katata bhi hai, Pareshan bhi karata hai aur bulata bhi hai bade pyar se jo shor mein shamil nahin hain, jinamen shor shamil nahin hai……….
Short Description of Garm Hava Mein Lahrate Parcham PDF Book : There is a lot of noise in the market, of drums, of drums and sometimes of worship of thoughts, of veneration, of aarti, of decoration, of lifeless vibrations, the noise has its own pain, its own story, its own sadness, speed There is a lot of desire to overcome all this, in the noise it also bites, disturbs and also calls with great love those who are not involved in the noise, in which the noise is not included……….
“सम्पन्नता कीमती साज-सामान एकत्रित करना नहीं बल्कि अपनी आवश्यकताओं को सीमित रखना है।” ‐ एपिक्टेटस
“Wealth consists not in having great possessions, but in having few wants.” ‐ Epictetus

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment