गीता प्रकाश : कृष्णा किशोर द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – साहित्य | Geeta Prakash : by Krishna Kishore Hindi PDF Book – Literature (Sahitya)

Book Nameगीता प्रकाश / Geeta Prakash
Category, ,
Language
Pages 302
Quality Good
Size 103 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : हिन्दी मे केवल दो वचन हैं; एक वचन और बहुवचन | इनके अतिरिक्त संस्कृत में “द्विवचन” भी है। इससे दो का बोध होता है। प्रत्येक वचन के अनुसार विभकति का रूप बदल जाता है। यद्यपि हम तालिकाओं में “द्विवचन” के विभक्ति रूप दे रहें हैं, पर हमारे पाठक इन पर अभी कोई विशेष ध्यान न दें………..

Pustak Ka Vivaran : Hindi me keval do vachan hain; Ek vachan aur bahuvachan. Inke Atirikt sanskrt mein “Dvivachan” bhi hai. Isase do ka bodh hota hai. Pratyek vachan ke anusar vibhakati ka roop badal jata hai. Yadyapi ham talikaon mein “dvivachan” ke vibhakti roop de rahen hain, par hamare pathak in par abhi koi vishesh dhyan na den………..

Description about eBook : There are only two words in Hindi; One word and plural. Apart from these, there is also “Divvachan” in Sanskrit. This makes sense of the two. The form of Vibhakati changes with each word. Although we are giving inflectional forms of “dual” in the tables, our readers should not pay any special attention to them right now………..

“प्रत्येक व्यक्ति के लिए यह याद रखना बेहतर होगा कि सभी सफल व्यवसाय नैतिकता की नींव पर आधारित होते हैं।” ‐ हैनरी वार्ड बीचर
“Each person would do well to remember that all successful business stands on the foundation of morality.” ‐ Henry Ward Beecher

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment