हिमालय के आँसू : आनन्द मिश्र द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – काव्य | Himalaya Ke Aansun : by Aanand Mishra Hindi PDF Book – Poetry (Kavya)

हिमालय के आँसू : आनन्द मिश्र द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - काव्य | Himalaya Ke Aansun : by Aanand Mishra Hindi PDF Book - Poetry (Kavya)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name हिमालय के आँसू / Himalaya Ke Aansun
Author
Category, , , , ,
Pages 129
Quality Good
Size 2 MB
Download Status Available

हिमालय के आँसू  पीडीऍफ़ पुस्तक का संछिप्त विवरण  :  नहीं जानता कि मैं अच्छी कविता लिख भी पाता हूँ या नहीं। इसके निर्णय का अधिकार
भी लेखक का नहीं होता । मेरे आत्मतोष का आधार-मात्र इतना ही है कि मैंने अब तक जो कुछ भी लिखा है,

उसका अधिकांश कर्तव्य जानकर लिखा है, ईमानदारी से लिखा है, सोद्देश्य लिखा है। यह ठीक है कि मैं
अपनी इस ग्यारह वर्षो की साहित्यिक यात्रा के विषय में.

Himalaya Ke Aansun  PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Nahin Janata ki main Achchhi kavita likh bhee pata hoon ya nahin. Isake Nirnay ka Adhikar bhee Lekhak ka nahin hota . Mere Aatmatosh ka Aadhar-Matra itana hi hai ki mainne ab tak jo kuchh bhee likha hai, Usaka Adhikansh kartavy Jankar likha hai, Emanadari se likha hai, soddeshy likha hai. Yah Theek hai ki main Apani is gyarah varsho kee sahityik yatra ke vishay mein………

Short Description of Himalaya Ke Aansun Hindi PDF Book  : I do not know whether I can write a good poem or not. The author also does not have the right to decide. The basis of my self-complacency is that I have written, sincerely, written and purposed, knowing most of the duties of what I have written so far. It is well that I will …… .. about this eleven year literary journey……

 

“घृणा के घाव बदसूरत होते हैं; और प्रेम के खूबसूरत।” ‐ मिगनों मैकलोलिन
“Hate leaves ugly scars; love leaves beautiful ones.” ‐ Mignon McLaughlin

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment