हिन्दी साहित्य पिछला दशक : विश्वनाथ द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – साहित्य | Hindi Sahitya ka Pichhala Dashak : by Vishwanath Hindi PDF Book – Literature (Sahitya)

Book Nameहिन्दी साहित्य पिछला दशक / Hindi Sahitya ka Pichhala Dashak
Author
Category,
Language
Pages 260
Quality Good
Size 1030 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : शोध एक पवित्र कार्य है | जान की राशी को समृद्व करना ही इसका उद्देश्य है | किसी भी भाषा के प्रारम्भिक विकास-सोपानों में उस भाषा के लेखकों और अनुसंधानकर्ताओं में एक “मिशनरी स्प्रिट” होती है, इस स्थिति में इन ज्ञान-क्षेत्र स्वयं सेवकों को केवल सम्मान मित्रता है और अपने कार्य से संतोष | शिबसिंह, मिश्रबन्धु, रामचन्द्र………

Pustak Ka Vivaran : Shodh ek pavitra kary hai. Gyan ki Rashee ko samrddh karana hi isaka uddeshy hai. kisi bhi bhasha ke prarambhik vikas-sopanon mein us bhasha ke lekhakon aur anusandhanakartaon mein ek mishanari sprit hoti hai, is sthiti mein in gyan-kshetra  svayan sevakon ko keval samman milata hai aur apane kary se santosh. Shivasinh, mishrabandhu, ramachandr…………

Description about eBook : Research is a sacred task. Its purpose is to enrich the amount of knowledge. In the early development of any language, the authors and researchers of that language have a “missionary spirit”, in this situation these volunteers are blessed with self-respect and satisfaction with their work. Shivsinh, Mishbandhu, Ramachandra………….

“किसी पुरुष या महिला के पालन-पोषण की आज़माइश तो एक झगड़े में उनके बर्ताव से होती है। जब सब ठीक चल रहा हो तब अच्छा बर्ताव तो कोई भी कर सकता है।” जॉर्ज बर्नार्ड शॉ
“The test of a man’s or woman’s breeding is how they behave in a quarrel. Anybody can behave well when things are going smoothly.” George Bernard Shaw

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment