हम वहशी हैं : कृष्णचन्द्र श्रीवास्तव द्वारा हिंदी पीडीऍफ पुस्तक | Hum Vahashi Hain : by Krishnachandra Shrivastava Hindi PDF Book

पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name हम वहशी हैं / Hum Vahashi Hain
Author
Category,
Language
Pages 114
Quality Good
Size 3.4 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : कृशनचन्दर का परिचय देने की कोशिश भी एक तरह की गुस्ताखी ही होगी क्योंकि कृशन को अब हिंदी के लोग भी काफी अच्छी तरह जान गए हैं | वह उर्दू के लेखक हैं, लेकिन पिछले कई बरसों से उनकी इतनी और ऐसी चीजें हिंदी पत्रों…………

Pustak Ka Vivaran : Krishanachandar ka parichay dene kee koshish bhee ek tarah kee gustaakhee hee hogee kyonki krshan ko ab hindi ke log bhee kaaphee achchhee tarah jaan gae hain| vah urdoo ke lekhak hain, lekin pichhale kaee barason se unakee itanee aur aisee cheezen hindee patron………….

Description about eBook : The attempt to introduce Krishnchandar will also be a matter of rubbish because the people of Hindi know well enough now. He is the author of Urdu, but for the last several years he has done so many such things and Hindi letters …………..

“अपनी सामर्थ्य का पूर्ण विकास न करना दुनिया में सबसे बड़ा अपराध है। जब आप अपनी पूर्ण क्षमता के साथ कार्य निष्पादन करते हैं, तब आप दूसरों की सहायता करते हैं।” ‐ रोजर विलियम्स
“The greatest crime in the world is not developing your potential. When you do your best, you are helping others.” ‐ Roger Williams

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment