जाने – अंजाने : विष्णु प्रभाकर द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – साहित्य | Jaane Anjane : by Vishnu Prabhakar Hindi PDF Book – Literature (Sahitya)

जाने – अंजाने : विष्णु प्रभाकर द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – साहित्य | Jaane Anjane : by Vishnu Prabhakar Hindi PDF Book – Literature (Sahitya)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name जाने – अंजाने / Jaane Anjane
Author
Category, , , ,
Language
Pages 222
Quality Good
Size 14 MB
Download Status Available

जाने – अंजाने पुस्तक का कुछ अंश :  वह उन दिनों की भाँति एक साधारण दिन था | सदा की तरह शिशिर की संध्या, धीरे-धीरे कॉपती, सिहरती, विश्व की लीलाभूमि में प्रवेश कर रही थी और कांत लिखने में तन्‍्मय था | जैसा कि सदा होता था उसका भाई दफ्तर से लौट आया और उसने रेडियो चला दिया | कांत ने इष्टि उठाकर एक बार रैडियो की ओर देखा और फिर लिखने लगा……..

Jaane Anjane PDF Pustak in Hindi Ka Kuch Ansh : Vah un dinon ki bhanti ek sadharan din tha. Sada ki tarah shishir ki sandhya, Dhire-Dhire kanpati, Siharati, Vishv ki lilabhoomi mein pravesh kar rahi thi aur kant likhne mein tanmay tha. Jaisa ki sada hota tha uska bhai daphtar se laut aya aur usne rediyo chala diya. Kant ne drshti uthakar ek bar rediyo ki or dekha aur phir likhne laga………………
Short Passage of Jaane Anjane Hindi PDF Book : It was an ordinary day like those days. As always, the evening of the Shishir, slowly groaning, shaking, entering the world of Leelbhum and writing Kant was Tanjam. As always, his brother returned from the office and he left the radio. Kant once raised his eyes and looked at the radio and then started writing……
“अपने मित्र को उसके दोषों को बताना मित्रता की सबसे कठोर परीक्षा होती है।” – हैनरी वार्ड बीचर
“It is one of the severest tests of friendship to tell your friend his faults.” – Henry Ward Beecher

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment