देश सेवकों के संस्मरण : विष्णु प्रभाकर द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक | Desh Sevakon Ke Sansmaran : by Vishnu Prabhakar Hindi PDF Book

देश सेवकों के संस्मरण : विष्णु प्रभाकर द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक | Desh Sevakon Ke Sansmaran : by Vishnu Prabhakar Hindi PDF Book
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name देश सेवकों के संस्मरण / Desh Sevakon Ke Sansmaran
Author
Category, ,
Language
Pages 149
Quality Good
Size 5.2 MB
Download Status Available

देश सेवकों के संस्मरण का संछिप्त विवरण : प्रसिद्ध गायक श्री दलीपकुमार राय ने बातचीत करने हेतु गाँधी जी ने कहा था “जीवन समस्त कला में श्रेष्ठ है | में तो समझता हू की जो अच्छी तरह जीना जनता है वही सच्चा कलाकार है | उत्तम जीवन की भूमिका के बिना कला किस प्रकार चित्रित किया जा सकता है | कला के मूल्य का आधार है जीवन को उन्नत बनाना……..

Desh Sevakon Ke Sansmaran PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Prasiddh gaayak shree daleepakumaar raay ne baatacheet karane hetu gaandhee jee ne kaha tha “jeevan samast kalaon mein shreshth hai. Mein to samajhata hoo kee jo achchhee tarah jeena janata hai vahee sachcha kalaakaar hai. Uttam jeevan kee bhoomika ke bina kala kis prakaar chitrit kiya ja sakata hai | kala ke mooly ka aadhaar hai jeevan ko unnat banaana………….
Short Description of Desh Sevakon Ke Sansmaran PDF Book : Famous singer Shri Dalipkumar Rai, Gandhiji had said, “Life is superior in all the arts.” I believe in the fact that the living person is the true artist and how art should be portrayed without the role of the best life. The value of art is the basis of life……………
“आपको अपने भीतर से ही विकास करना होता है। कोई आपको सीखा नहीं सकता, कोई आपको आध्यात्मिक नहीं बना सकता। आपको सिखाने वाला और कोई नहीं, सिर्फ आपकी आत्मा ही है।” ‐ स्वामी विवेकानंद
“You have to grow from the inside out. None can teach you, none can make you spiritual. There is no other teacher but your own soul.” ‐ Swami Vivekananda

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment