जरूरी है देश : हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – कविता | Jaruri Hai Desh : Hindi PDF Book – Poem (Kavita)

Book Nameजरूरी है देश / Jaruri Hai Desh
Author
Category, , , , , , , ,
Language
Pages 2
Quality Good
Size 380 KB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : सहम उठता है वृक्ष का विछा हुआ तना कि आदमी और आदमी के बीच, आदमी और प्रकृति के बीच अविश्वास का धुँआ, होता चला गया है इतना घना कि वह अब, जोड़ने की किसी तमीज तक उसे पहुँचाने में असमर्थ है, कि प्रकृति का समर्थ संकेत भी आदमी के लिए व्यर्थ है स्तब्ध है, वृक्ष का बिछा हुआ तना कि अब कोई मरणासत्र बूढ़ा, अपने बेटों को एकता का…….

Pustak Ka Vivaran : Saham Uthata hai vrksh ka vichha huya tana ki Aadami aur Aadami ke beech, Aadami aur prakrti ke beech avishvas ka dhuna, hota chala gaya hai itana ghana ki vah ab, jodane kee kisi tameej tak use pahunchaane mein asamarth hai, ki prakrti ka samarth sanket bhi Aadami ke liye vyarth hai stabdh hai, vriksh ka bichha huya tana ki ab koi Maranasann boodha, apane beton ko ekata ka…….

Description about eBook : The sprawling trunk of the tree, that between man and man, the smoke of mistrust between man and nature, has become so thick that it is no longer able to convey to it any way of connecting, that is the powerful sign of nature. It is also useless for a man, stunned, the spread of the tree that now a dying old man, to his sons of unity……

“स्वास्थ्य की हानि होने पर न तो प्रेम, न ही सम्मान, न ही धन-दौलत और न ही बल द्वारा हृदय को खुशी मिल सकती है।” – जॉन गे
“Nor love, not honour, wealth nor power, can give the heart a cheerful hour when health is lost. ” – John Gay

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment